सीएम त्रिवेंद्र ने हेल्थ वर्कर्स को किया नमन, बोले-टीकाकरण के बाद भी बरती जाए सतर्कता

36

 

देहरादूनः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से कोविड-19 टीकाकरण के देशव्यापी अभियान का शुभारम्भ किया। वहीं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दून अस्पताल के नवीन ओपीडी में इस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। दून अस्पताल में चिकित्सकों और हेल्थवर्करों के टीकाकरण से राज्य के सभी 13 जिलों में कोविड-19 के टीकाकरण का शुभारम्भ किया गया।

यह भी पढ़ें-भारत-नेपाल ​द्विपक्षीय संबंध और मजबूत करने पर हुए सहमत, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य को पहले चरण में एक लाख 13 हजार वैक्सीन उपलब्ध हुई है। 50 हजार स्वास्थ कर्मियों के टीकाकरण से इसकी शुरुआत की जा रही है। इसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों एवं को- माॅर्बिड का वैक्सीनेशन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों ने विषम परिस्थितियों में कार्य करते हुए कोरोना महामारी को काफी हद तक नियंत्रित किया। अपनी जान की परवाह किए बगैर उन्होंने जनसेवा की। दून मेडिकल काॅलेज द्वारा मृत्युदर कम करने के लिए सराहनीय प्रयास किए गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि चरणबद्ध तरीके से सभी लोगों का कोविड टीकाकरण किया जाएगा।

उन्होंने जनता से अपील की है कि टीकाकरण के लिए भ्रामक प्रचार और अफवाहों से बचें। कोविड से बचाव के लिए टीकाकरण के बाद भी पूरी सतर्कता बरती जाए, क्योंकि 28वें दिन में दूसरा टीका लगने के बाद 2 सप्ताह एंटी बाॅडी विकसित होने में लगते हैं। तब तक बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कुंभ मेले के दृष्टिगत 20 हजार अतिरिक्त वैक्सीन के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया गया है। मुख्यमंत्री ने कोरोनाकाल में जन जागरुकता के क्रम में सकारात्मक भूमिका निभाने के लिए मीडिया की तारीफ की। उन्होंने कहा कि इस दौरान मैं भी अस्पताल में भर्ती रहा हूं और मैंने अनुभव किया है वहां पर डॉक्टर, हेल्थ वर्कर्स और जो भोजन परोसने का काम करते हैं, यानी कि अस्पताल का ए टू जेड डॉक्टर्स, नर्सेज और कर्मचारियों ने जो भूमिका निभाई वह अपने आप में वंदनीय है। इन लोगों ने जिस तरह से अपनी ड्यूटी को अंजाम दिया मैं उन सभी को सबसे पहले नमन करना चाहता हूं, क्योंकि उन्होंने अपनी जान पर खेलकर दूसरे लोगों की जान बचाई। इसलिए हेल्थ वर्कर्स को हम जितना सम्मान दे सकें, हमें देना चाहिए। उन्होंने कोरोना के इलाज के दौरान जान गंवाने वाले चिकित्सकों और हेल्थ वर्कर्स को नमन किया और श्रद्धांजलि अर्पित की।