लोजपा नेता की अपहरण के बाद हत्या, समर्थकों ने किया जमकर प्रदर्शन

पटनाः बिहार के पूर्णिया जिले में अज्ञात हमलावरों ने लोक जनशक्ति पार्टी के नेता अनिल उरांव की गोली मारकर हत्या कर दी। लोजपा आदिवासी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष उरांव का पूर्णिया के खजांची हाट थाना क्षेत्र से 29 अप्रैल को अपहरण कर लिया गया था। परिवार वालों से फिरौती के तौर पर 10 लाख रुपये की मांग की गई थी। बताया जाता है कि नेता के परिवार के सदस्यों ने अपहरणकर्ताओं को फिरौती की रकम का भुगतान भी किया था। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने उरांव की हत्या कर दी।

मृतक नेता के रिश्तेदार रामेश्वर उरांव ने कहा कि अनिल उरांव का अपहरण करने के बाद अपहरणकर्ताओं ने 10 लाख रुपये नकदी की मांग की थी। पैसे की व्यवस्था की गयी और उनके द्वारा बताए गए पते पर पहुंचे। भानभग बांध (तटबंध) पर इंतजार किया, जहां दो व्यक्ति पल्सर मोटर बाइक पर आए और 10 लाख रुपये से भरे बैग को ले गए। तब से हम अनिल उरांव की रिहाई की प्रतीक्षा कर रहे थे। रविवार को पूर्णिया शहर के डंगराहा इलाके से आदिवासी नेता अनिल उरांव का शव बरामद किया गया। हत्या के बाद स्थानीय निवासियों और रिश्तेदारों ने सड़क पर जाम लगा दिया और जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया।

यह भी पढ़ेंःपिता के निधन के बाद बेहद दुखी हैं हिना खान, बोलीं-वक्त…

रामेश्वर उरांव ने बताया कि जब उन्होंने पार्थिव शरीर को ठीक से देखा तो यह सामने आया कि अपहरणकर्ताओं द्वारा गोली मारकर हत्या किए जाने से पहले अनिल उरांव की बेरहमी से पिटाई भी की गई थी। वहीं बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि पूर्णिया की स्थानीय पुलिस ने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया है और अन्य लोगों को पकड़ने के लिए छापे मारे जा रहे हैं।

loading...