देश Featured दिल्ली पंजाब हरियाणा

Farmers Protest: किसानों और केंद्र के बीच आज होगी तीसरे दौर की बैठक, इन मांगों पर अटकी बात

farmers-protest-shambhu-border
Farmers Protest, चंडीगढ़ः पंजाब के हजारों किसान लगातार तीसरे दिन भी हरियाणा की सीमाओं पर डटे हुए हैं। शंभू बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान दिल्ली आने पर अड़े हुए हैं। इस बीच किसान नेताओं ने केंद्र सरकार से बातचीत का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है। गुरुवार शाम 5 बजे किसानों और केंद्र सरकार के बीच चंडीगढ़ (Chandigarh) में तीसरे दौर की बैठक होगी।

दो बैठकें रही बेनतीजा

किसान नेता जगजीत सिंह दल्लेवाल ने कहा है कि तीन केंद्रीय मंत्रियों की एक टीम 15 फरवरी को किसान नेताओं से उनकी विभिन्न मांगों पर फिर मुलाकात करेगी। इससे पहले 8 और 12 फरवरी को हुई ऐसी दो बैठकें बेनतीजा रही। अब केंद्र सरकार ने किसान नेताओं को तीसरे दौर की वार्ता के लिए आमंत्रित किया है। हरिणाया सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जब प्रदर्शनकारी किसान फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी सहित अपनी अधूरी मांगों पर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए राष्ट्रीय राजधानी की ओर जाने पर अड़े थे, तो केंद्र ने "मुद्दों को सौहार्दपूर्ण ढंग से निपटाने" के लिए बातचीत के एक और दौर की घोषणा की। ये भी पढ़ें..अखिलेश के अपने ही बढ़ा रहे टेंशन ! कांग्रेस के साथ सीट बंटवारें में क्यों उलझ रही सपा

शंभू बॉर्डर पर Farmers Protest जारी

उधर पंजाब और हरियाणा के बीच अंतर-राज्यीय सीमाओं पर हजारों किसान लगातार तीसरे दिन भी शंभू बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर। किसानों को रोकने के लिए सुरक्षा बलों ने पुख्ता तैयारी की है। इससे पहले बुधवार को दिन भर पंजाब-हरियाणा की सीमा पर किसानों ने जमकर बवाल काटा। पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मी और किसान घायल हो गए। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर रबर की गोलियां चलाई और आंसू गैस के गोले छोड़े। यहां तक कि ड्रोन से भी हमला कर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा जा रहा है। वहीं किसानों द्वारा की गई पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मी और किसान घायल हो गए।

अपनी मांगों को पर अड़े किसान

बता दें कि 200 से अधिक किसान संघों का प्रतिनिधित्व करने वाले किसान फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी, कृषि ऋणों की माफी और विरोध करने वालों के खिलाफ आपराधिक मामलों सहित अपनी अधूरी मांगों पर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए राष्ट्रीय राजधानी की ओर बढ़े रहे हैं। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)