महाराष्ट्र

नकली नोट छापने वाले रैकेट का पर्दाफाश, 6 चढ़े पुलिस के हत्थे

fake curreny
Pune Crime: पुणे में पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस ने ऑनलाइन ऑर्डर किए गए चीनी कागज पर 500 रुपये के नकली भारतीय नोट छापने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि एक इंजीनियर समेत छह लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुणे में पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस के अधिकार क्षेत्र में आने वाले देहु रोड पुलिस स्टेशन ने गिरफ्तारी के लिए ऑपरेशन चलाया।

भारी मात्रा में नकली नोट बरामद

वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक नितिन फटांगरे के नेतृत्व में एक टीम ने 500 रुपये के 440 नकली नोट, 4,700 आंशिक रूप से मुद्रित मुद्रा नोट, 4,484 मुद्रित और चीनी निर्मित मुद्रा कागज की 1,000 शीट, एक प्रिंटिंग मशीन, लैपटॉप, कागज काटने की मशीन और अन्य चीजें जब्त कीं। सामान जब्त कर लिया गया। पुलिस टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई को अंजाम दिया। बताया गया कि आईटी इंजीनियर रितिक खडसे (22) ने अपने कुछ दोस्तों के साथ मिलकर प्रिंटिंग का बिजनेस शुरू किया है। उन्होंने अप्पा बलवंत चौक इलाके से एक पुरानी प्रिंटिंग मशीन खरीदी थी। पैम्फलेट, हैंडबिल और अन्य प्रचार सामग्री प्रकाशित करने के लिए दिघी में अपनी मुद्रण इकाई शुरू की। यह भी पढ़ें-Ranchi: युवा मतदाताओं को प्रोत्साहित करने को रांची में होगा वोटर फेस्ट

यहां से करता था पेपर ऑर्डर

पर्याप्त ऑर्डर न मिलने के कारण उनका व्यवसाय घाटे में चला गया। इसके बाद, मुख्य आरोपियों में से एक, 41 वर्षीय सूरज यादव (जो एक ड्राइवर है) ने आसानी से पैसा कमाने के लिए नकली भारतीय मुद्रा नोट छापने का विचार सुझाया। सूरज यादव ने दावा किया कि वह नोट्स डिजाइन करने की कला जानता है। पेपर एक चीनी ई-कॉमर्स पोर्टल से ऑर्डर किया गया था। उन्होंने परीक्षण के आधार पर वाटर-मार्क, थ्रेड और अन्य सुरक्षा सुविधाओं के साथ 500 रुपये मूल्य के 140 नोट छापे। उसने 1 लाख रुपये अंकित मूल्य के 200 ऐसे नकली नोट छापने के लिए 40,000 रुपये का ऑर्डर हासिल किया। जब यादव ने मुकाई चौक पर कुछ ग्राहकों को 140 नकली नोट देने की कोशिश की, तो उसे रंगे हाथों पकड़ लिया गया। अधिकारियों ने बताया कि धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों में प्रणव गवनहे (31), आकाश धांगेकर (22), तेजस बल्लाल (19) और सूरज सालुंखे (32) शामिल हैं। सभी छह आरोपियों को एक हफ्ते के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि रैकेट का नेटवर्क कहां तक फैला हुआ है। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)