असली सोने का टुकड़ा दिखाकर नकली सोना देने वाली टटलू गैंग का खुलासा, दो गिरफ्तार

जयपुरः मालपुरा गेट थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम जयपुर पूर्व (डीएसटी) ने असली सोने का टुकड़ा दिखाकर नकली सोना देने वाली टटलू गैंग का खुलासा करते हुए दो शातिर ठगों को गिरफ्तार कर उनके पास से एक किलो 750 ग्राम नकली सोना भी बरामद किया गया है। दोनों ठगों को पुलिस ने बोगस ग्राहक बनकर टोंक रोड पर बंबाला पुलिया के पास से सोमवार को पकड़ा है। फिलहाल आरोपितों से पूछताछ की जा रही है, पूछताछ में और भी वारदातें खुलने की आंशका जताई जा रही है।

पुलिस उपायुक्त जयपुर (पूर्व) प्रहलाद सिंह कृष्णियां ने बताया कि मालपुरा गेट थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम जयपुर पूर्व (डीएसटी) ने मकान की नींव खुदाई में गढ़ी हुई सोने की मालाओं का गुच्छा बताकर आधे दामों में नकली सोना बेचने वाली टटलू गैंग का खुलासा करते हुए गैंग के शातिर आरोपित मगरा राम बागरी (42) निवासी गांव भोकड़ा जिला जालोर और सोपाराम बागरी (33) निवासी रामसिंह जिला जालोर को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के कब्जे से एक किलो 750 ग्राम वजनी नकली सोने की 19 मालाओं का गुच्छा बरामद किया है।

थानाप्रभारी रायसल सिंह ने बताया कि इस संबंध में एसआई अनिल कुमार ने मामला दर्ज करवाया था कि 20 सितंबर को गश्त करते हुए टोंक रोड पर इंडिया गेट पहुंचे। तभी कांस्टेबल राकेश कुमार के मोबाइल फोन पर एक कॉल आया कि कुछ लोग सोने की माला बेचने की फिराक में घूम रहे है, जो संदिग्ध लगते है। इस पर कांस्टेबल राकेश ने आरोपित मगराराम से फोन पर संपर्क किया। तब उसने बताया कि उसके घर में नींव की खुदाई में सोने की मालाओं के दो गुच्छे मिले है। रुपयों की जरुरत होने से वह इन मालाओं को वह आधी रकम में बेचना चाहता है। तब राकेश ने बोगस ग्राहक बनकर माला खरीदने की इच्छा जताई और मगराराम ने बातचीत कर पुलिस कांस्टेबल राकेश को बंबाला पुलिया के पास मिलने बुलाया। राकेश को सादा वर्दी में टैंपो में बैठाकर रवाना किया गया और पीछे पीछे एसआई अनिल और अन्य पुलिसकर्मी दूसरी गाड़ी से रवाना हो गए। राकेश ने बंबाला पुलिया के पास फोन कर ठग मगराराम से संपर्क किया। तब मगराराम और उसका साथी पैदल आए। उन्होंने राकेश से संपर्क कर मालाएं दिखाते हुए पुराना सोना बताया और दोनों मालाओं के गुच्छे 11 लाख रुपये में बेचने की बात कही। उसके मोती भी चैक करने को दिए। तभी राकेश ने मालाएं नकली होने का शक जाहिर किया तो वे दोनों सकपका गए। संदेह होने पर कांस्टेबल राकेश द्वारा बंबाला पुलिया के चाय की थड़ी और पेड़ों की ओट में छुप कर बैठी पुलिस टीम को इशारा मिलते ही घेरकर दोनों बदमाशों को दबोच लिया। तब पूछताछ करने पर बताया कि दोनों मालाएं नकली सोने से बनी है। जिनको वह एंटिक सोना बताकर बेच रहे थे।पूछताछ में अनेक वारदातों का खुलासा होने की संभावना है।

यह भी पढ़ेंः-महिला को बंधक बना 4 लड़कों ने तीन दिन तक की दरिंदगी, हालत बिगड़ने पर छोड़कर भागे

राहगीरों ने नहीं दिया पुलिस का साथ

गश्त के दौरान ठगों का फोन आने पर उन्हें तुरंत दबोचने के लिए पुलिस ने अनेक राहगीरों को रोककर उनमें से किसी एक के गवाह बनने के लिए पूछा। लेकिन सभी लोगों ने कोर्ट कचहरी के चक्कर में ना पड़ने की दलील देते हुए पुलिस की मदद करने से मना कर दिया। जिसके बाद एसआई अनिल कुमार खुद इस पूरे मामले के गवाह बने और मामला दर्ज करवाया।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)