Featured क्राइम

श्रद्धा जैसा एक और हत्याकांड ! लिव-इन में रह रहे पार्टनर ने प्रेमिका के टुकड़े-टुकड़े कर फेंका

honor- killing-murder
shraddha-style-murder-in-hyderabad हैदराबादः राजधानी दिल्ली के बहुचर्चित श्रद्धा वॉल्कर हत्याकांड (murder) को लोग अभी भूल भी नहीं पाए थे कि ऐसी ही एक और वारदात ने फिर झंझकोर दिया। इस बार मामला हैदराबाद का है। यहां भी लिव-इन पार्टनर ने पहले अपनी प्रेमिका की बेरहमी से हत्या की फिर उसके शव को पत्थर काटने वाली मशीन से टुकड़े-टुकड़े कर अलग-अलग जगहों पर फेंक दिया। फिलहाल पुलिस ने बुधवार को आरोपी लिव-इन पार्टनर को गिरफ्तार कर लिया है। इस सनसनीखेज हत्याकांड (murder) का जांच करते हुए पुलिस हैरान करने वाला खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने मृतका के पैर और हाथ अपने घर के रेफ्रिजरेटर में रख रखे थे और दुर्गंध से बचने के लिए इत्र और कीटाणुनाशक दवाओं का छिड़काव किया था। पुलिस द्वारा मिली जानकारी मुताबिक हैदराबाद पुलिस को 17 मई को शहर में मुसी नदी के पास एक कटे सिर के बारे में पता चला। पुलिस ने इस वारदात की जब जांच की तो हैरान कर देने वाले वाला मामला सामने आया। ये भी पढ़ें..Ganga Dussehra 2023: मां गंगा के 108 नामों का करें जाप, मिट जायेंगे सभी कष्ट एवं पाप

7 लाख रुपये को लेकर हुआ था विवाद

दरअसल आरोपी चंद्र मोहन ( 48 ) के कृतिका यारम अनुराधा रेड्डी (55) से 15 साल से अवैध संबंध थे। महिला अपने पति से अलग दिलसुखनगर स्थित चैतन्यपुरी कॉलोनी स्थित अपने घर में चंद्र मोहन के साथ रह रही थी। कृतिका जरूरतमंदों को ब्याज पर पैसा उधार देने के बिजनेस करती थी। आरोपी ने भी ऑनलाइन व्यापार करने के लिए मृतिका से लगभग 7 लाख रुपये लिए थे। इसी पैसे से दोनों के बीच विवाद हो गया। महिला द्वारा पैसे के लिए दबाव बनाने पर वह उससे रंजिश रखता था और उसे मारने की योजना बना रहा था। 12 मई को, आरोपी ने उसके घर पर झगड़ा हुआ और चाकू मारकर उसकी बेरहमी से हत्या (murder) कर दी।

पत्थर काटने वाली मशीन से कटी लाश

आरोपी चंद्र मोहन महिला की हत्या करने के बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए पत्थर काटने की दो छोटी मशीनें खरीदीं और टुकड़ों में काटकर दिया। सिर को धड से काटकर काले पॉलीथिन के ढक्कन में रख दिया। उसके बाद पैर और हाथ अलग किए और उनको भी फ्रिज में रख दिया।इसके बाद आरोपी मोहन ने फिनायल, परफ्यूम, डेटॉल, कपूर और अगरबत्ती खरीद कर मृतक के शरीर के अंगों पर नियमित रूप से छिड़का ताकि आसपास के इलाके में दुर्गंध न फैले। उसने ऑनलाइन वीडियो देखकर शरीर के अंगों को डिस्पोज करना सीखा। फिर 15 मई को मृतक का कटा सिर मुसी नदी के पास फेंक दिया।

नदी किनारे मिला था सिर

इतना ही नहीं वह मृतका के मोबाइल फोन से उसके जानने वाले लोगों को यह विश्वास दिलाने के लिए संदेश भेजता रहा कि वह जीवित है और कहीं और रह रही है। लेकिन 17 मई को मुसी नदी के पास सफाई कर्मचारियों का कटा हुआ सिर मिला। इसके बाद मलकपेट पुलिस ने मामला दर्ज किया और इसको सुलझाने के लिए आठ टीमों का गठन किया। जिसके बाद सीसीटीवी फुटेज की स्कैनिंग और अन्य जांच कर पुलिस ने आरोपी तक पहुंची। पूछताछ के बाद आरोपी ने अपना जुर्म कबूला। फिलहाल पुलिस ने पीड़िता के शरीर के अंगों को उसके घर से बरामद कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही आरोपी को बी चंद्र मोहन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)