राकेश टिकैत बोले- एक कदम भी पीछे नहीं हटेगा किसान

रोहतकः भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार को तीन कृषि कानून वापस लेने होंगे और एमएसपी पर गारंटी देनी होगी, इसके लिए चाहे किसानों को दस साल ही क्यों ना आंदोलन चलाना पड़े, वह एक कदम भी पीछे नहीं हटेगे। शनिवार को यह बात उन्होंने मकडोली टोल प्लाजा पर किसान मजदूर महापंचायत में कही।

उन्होंने कहा कि करीब एक साल से आंदोलन चल रहा है और अब तो किसान बाखुबी से आंदोलन चलाना भी सीख गए है, उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। राकेश टिकैत ने कहा कि तीन कृषि कानून पूरी तरह से किसान विरोधी है और सरकार को किसानों व मजदूरों की बल्कि पूंजीपतियों की चिंता है। साथ ही भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि सरकार को किसानों की कोई चिंता नहीं है, लेकिन किसान आंदोलन पूरी तरह से मजबूती से चल रहा है और जब तक तीन कृषि कानून वापिस नहीं होगे आंदोलन जारी रहेगा। साथ ही उन्होंने किसानों का आह्वान किया कि प्रत्येक गांव से हर रोज दस किसान जरूर धरनो पर पहुंचे।

किसान मजदूर की एकता के सामने सरकार को पड़ेगा झुकनाः कांता आलडिया

महापंचायत का मंच संचालन करते हुए भारतीय किसान यूनियन की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कांता आलडिया ने कहा कि किसान मजदूर की एकता के सामने सरकार को झुकना पड़ेगा और तीन कृषि कानून व एमएसपी पर गारंटी कानून बनाना ही होगा। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को एक साल होने वाला है, लेकिन सरकार हठधर्मिता अपनाएं हुए है। उन्होंने कहा कि अहंकार तो रावण का भी नहीं रहा। सरकार कभी भी तानाशाही से नहीं चलती है, बल्कि जनभावनाओं से चलती है।

यह भी पढ़ेंः-2022 की शुरुआत में अपना फोन लॉन्च कर सकती है Nothing

भारतीय किसान यूनियन अंबावता के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऋषिपाल अंबावता ने कहा कि हरियाणा की राजनीति का रोहतक गढ़ है। आज किसान व मजदूर सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ है। भारतीय किसान यूनियन अंबावता के प्रदेश अध्यक्ष अनिल नांदल ने कहा कि किसान आंदोलन को साढ़े दस महीने से भी ज्यादा का समय हो गया है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)