Featured हरियाणा

फतेहाबाद में भारत बंद और हड़ताल का मिलाजुला असर, रोडवेज बसों का चक्का जाम

Bharat Bandh Today
Bharat Bandh Today। Haryana : संयुक्त किसान मोर्चा और केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की ओर से शुक्रवार को किए गए भारत बंद के आह्वान का फतेहाबाद जिले में मिलाजुला असर रहा। कर्मचारियों की हड़ताल के कारण सरकारी कार्यालयों में भी कामकाज ठप रहा। रोडवेज बसें बाधित होने से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। जिले के टोहाना क्षेत्र के गांवों में किसानों ने कई सड़कों को जाम कर दिया। जाखल में अधिकतर दुकानें बंद रहीं। दोपहर तक जाखल में हर तरफ सन्नाटा पसरा रहा। फतेहाबाद शहर में बंद का कोई असर नहीं दिखा और पूरा बाजार आम दिनों की तरह खुला रहा और जनजीवन सामान्य नजर आया। फतेहाबाद में सभी विभागों में कर्मचारी संगठनों ने अपने कार्यालयों के सामने धरना दिया। आज की हड़ताल के कारण छोटे रूटों पर भी रोडवेज बसें नहीं चलीं। हालांकि, रोडवेज ने विकल्प के तौर पर बसें चलाई हैं, लेकिन ये सिर्फ सिरसा और हिसार के लिए ही चल रही हैं।

किसानों ने तहसील स्तर पर किया प्रदर्शन

जिले की सभी तहसीलों पर किसानों, मजदूरों और कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया और भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कुलां में संयुक्त मोर्चा की ओर से जिला संयोजक जगतार सिंह, भट्टू में किसान सभा के जिला अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, फतेहाबाद में खेत मजदूर यूनियन के जिला सचिव रामकुमार बहबलपुरिया, किसान सभा के अध्यक्ष पतराम ढाणी ईशर, रतिया में किसान सभा के जिला सचिव राजेंद्र प्रसाद बाटू और किसान सभा के जिला उपप्रधान रामस्वरूप ढाणी गोपाल के नेतृत्व में टोहाना और भूना में बीकेयू उगराहां के प्रधान निर्भय सिंह, जाखल किसान सभा के प्रधान अमर सिंह तलवाड़ा और बीकेयू उगराहां के प्रधान उत्तम सिंह, बीकेयू नैन के जिला प्रधान लाभ सिंह और किसान सभा के नेता हमीद समैन ने टोहाना और भूना में प्रदर्शन किया। में प्रदर्शन हुए।

हड़ताल के जरिए उठाईं ये मांगें

संयुक्त किसान मोर्चा की मांग है कि एमएसपी पर फसल खरीद की गारंटी का कानून बनाया जाए। विद्युत संशोधन अधिनियम एवं प्रीपेड स्मार्ट मीटर योजना को रद्द किया जाए। लखीमपुर खीरी के शहीद किसानों को न्याय मिलना चाहिए। शहीद किसानों के शहीद स्मारक के लिए जगह दी जाए। बीमा कंपनियों की मनमानी रोकी जाए और लंबित बीमा दावे जारी किए जाएं। ओलावृष्टि से नष्ट हुई रबी 2023 की फसलों का विशेष गिरदावरी मुआवजा जारी किया जाए। जलभराव के कारण क्षतिग्रस्त कृषि भूमि का सुधार किया जाए। सभी किसानों व मजदूरों को कर्ज से मुक्ति दिलाई जाए। हरियाणा भूमि अधिग्रहण कानून 2020 में किसान विरोधी प्रावधान हटाए जाएं। किसान सम्मान निधि दोगुनी की जाए।

रोडवेज कर्मचारियों ने जमकर की नारेबाजी

फतेहाबाद के पुराने बस अड्डे पर रोडवेज कर्मचारियों ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। रोडवेज यूनियन अध्यक्ष शिवकुमार श्योराण ने कहा कि हमारी हड़ताल पूरी तरह सफल रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों से लेकर आम लोगों और कर्मचारियों तक को परेशान किया है। उन्होंने कहा कि रोडवेज बसें बंद हैं, केवल किलोमीटर स्कीम की बसें ही चल रही हैं। फतेहाबाद में यात्री परेशान रहे। बस स्टैंड पर लोगों की भीड़ साफ नजर आ रही थी। प्राइवेट बसों और किलोमीटर स्कीम की बसों के अलावा अन्य रोडवेज बसें ही चल पाई हैं, ये बसें भी केवल छोटे रूटों पर ही चली हैं।

नगर परिषद के कर्मचारी हड़ताल पर रहे, कामकाज ठप

फतेहाबाद नगर परिषद के कर्मचारी शुक्रवार को हड़ताल पर रहे और नगरपालिका कर्मचारी संघ के बैनर तले नगर परिषद कार्यालय में धरना दिया और भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस हड़ताल में नगर परिषद के सभी सफाई कर्मचारी, डोर टू डोर सफाई कर्मचारी, टाटा एस चालक, मार्केट कमेटी के सफाई कर्मचारी और कार्यालय कर्मचारी भी शामिल हुए। कर्मचारियों के आंदोलन की अध्यक्षता नगर पालिका कर्मचारी संघ फतेहाबाद के इकाई प्रधान नरेश राणा व संचालन सचिव ओमप्रकाश लोट ने किया। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)