देश Featured

Himachal Pradesh: कांग्रेस के 6 बागी विधायक अयोग्य घोषित, स्पीकर ने की कार्रवाई

Himachal Pradesh: 6 rebel Congress MLAs disqualified, Speaker takes action
Himachal Pradesh: हिमाचल प्रदेश के विधानसभा स्पीकर कुलदीप सिंह पठानिया ने कांग्रेस के 6 बागी विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया है। इन 6 विधायकों ने राज्यसभा चुनाव में भाजपा को वोट दिया था। बुधवार को विधानसभा अध्यक्ष कुलपदीप पठानिया ने मामले की सुनवाई की थी और दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। बुधवार को विधानसभा में कांग्रेस पार्टी की ओर से वीएचपी द्वारा जारी हिमाचल प्रदेश विनियोग विधेयक 2024 के दौरान अनुपस्थित रहने पर इन छह विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की यह कार्रवाई की गई।

हर्ष वर्धन चौहान ने की थी शिकायत

विधानसभा अध्यक्ष पठानिया के समक्ष सुनवाई के दौरान संसदीय कार्य मंत्री हर्ष वर्धन चौहान ने बुधवार को विनियोग विधेयक 2024 पेश करने के दौरान छह कांग्रेस सदस्यों के सदन से अनुपस्थित रहने का मुद्दा उठाया। चैहान ने कहा कि यह व्हिप का उल्लंघन है। व्हिप का उल्लंघन करने वाले छह विधायकों को अयोग्य घोषित करने की कार्रवाई की जाए। संसदीय कार्य मंत्री हर्ष वर्धन चैहान की याचिका पर विधानसभा अध्यक्ष ने इन सभी छह विधायकों को नोटिस जारी किया था, जिसके बाद इस मामले की सुनवाई हुई। यह भी पढ़ेंः-Himachal Political Crisis: ‘मैंने नहीं दिया इस्तीफा’, सुक्खू ने BJP पर लगाया अफवाह फैलाने का आरोप

विक्रमादित्य ने वापिस लिया त्याग पत्र

हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव के बाद कांग्रेस में मचे घमासान के बाद बुधवार सुबह लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने सुक्खू सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। लेकिन, केंद्रीय पर्यवेक्षकों के हस्तक्षेप के बाद विक्रमादित्य सिंह ने बुधवार शाम को अपना इस्तीफा वापस ले लिया। हिमाचल कांग्रेस प्रभारी राजीव शुक्ला ने बुधवार शाम को कहा कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों से बात करने के बाद विक्रमादित्य सिंह ने अपना इस्तीफा वापस ले लिया है। विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डी शिव कुमार और हरियाणा और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्रियों भूपेन्द्र हुड्डा और भूपेश बघेल के साथ सभी चर्चाओं के बाद मैंने अपना इस्तीफा वापस ले लिया है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों से उनकी बातचीत हुई है और उन्होंने आश्वासन दिया है कि उन्होंने जो भी बिंदु रखे हैं उन पर विचार किया जाएगा और केंद्रीय नेतृत्व को सूचित किया जाएगा। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)