युवा कांग्रेस ने किया भारत जोड़ो अभियान का आगाज

नई दिल्ली: भारतीय युवा कांग्रेस ने शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर राजीव क्रांति भारत जोड़ो अभियान की शुरुआत की। दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में इस अवसर पर देश भर से युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया। रक्त दान शिविर, राजीव गांधी के जीवन पर आधारित एक चित्र प्रदर्शनी आदि।

भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी और युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी और एआईसीसी सह सचिव कृष्णा अल्लावारु ने भी इस मौके पर रक्त दान किया व उनके साथ- साथ अनेकों युवाओं ने उनका सहयोग किया।

इस अवसर पर श्रीनिवास ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सोच एक क्रांतिकारी सोच थी जिसने युवा भारत की नीव रखी। आज हम जिस डिजिटल क्रांति के दौर में हैं उसकी बुनियाद देश में राजीव गांधी ने रखी थी। राजीव गांधी ने ही उम्र सीमा कम करके युवाओं को वोटिंग की ताकत दी। इस कार्यक्रम के माध्यम से हमने भारत को जोड़ने की शुरुआत के तहत एक नई क्रांति का आगाज किया है।

उन्होंने कहा कि आजादी की लड़ाई के दौरान बापू ने गांवों की मजबूती का सपना देखा था, उस सपने को पूरा किया- राजीव गांधी ने। पंचायती राज के जरिए उन्होंने अधिकार और ताकत गांवों की चौखट पर लाकर रख दिए। देश में जब अस्थिरता का माहौल आया; पंजाब से लेकर असम तक असंतोष पनपा, तो राजीव गांधी ने बापू के मार्ग पर चलते हुए शांति समझौतों के जरिए देश को एक रखा। राजीव जी जो कर गए देश के लिए, वो विरले ही कर पाएंगे।

वहीं कांग्रेस पार्टी के कोषाध्यक्ष पवन कुमार बंसल ने कहा कि श्रीलंका हो या मालदीव, राजीव गांधी ने शांति और मानवाधिकारों की रक्षा के लिए हमेशा कदम उठाए। उनके कदमों ने भारत की सद्भाव और वसुधैव कुटुम्बकम वाली भावना का मान बढ़ाते हुए भारत का सिर ऊंचा किया।

कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने इस मौके पर कहा कि युवा सपनों को नई उड़ान देने का काम आजादी के बाद राजीव गांधी जी ने किया। 18 साल की उम्र में मताधिकार इस देश के युवाओं की निर्णय क्षमता पर वो भरोसा था, जिसके बल पर हिंदुस्तान ने उड़ानें भरी।

यह भी पढ़ेंः-ज्ञानवापी विवाद : अपमानजनक पोस्ट के आरोप में गिरफ्तार डीयू के…

भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी और एआईसीसी सह सचिव कृष्णा अल्लावारु ने कहा कि कुछ युगपुरुष ऐसे होते हैं, जो जीवन त्यागकर अमर हो जाते हैं। राजीव गांधी उनमें से एक हैं, तमाम खतरों के बारे में जानते हुए भी वो अपने जीवन की परवाह किए बिना देश के लिए लगे रहे। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के वक्तव्य वर्तमान समय में विकास के असली मायनों को समझा रहे हैं। असली विकास वही है, जिसमें मानवीय मूल्यों को वरीयता दी जाए। राष्ट्र निर्माण में राजीव गांधी जी का योगदान अविस्मरणीय है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)