Leap year: 2024 लीप ईयर, जानें क्यों और कब होता है लीप ईयर

0
4

Leap year 2024: नये साल 2024 का आगमन हो चुका है। आपको बता दें कि यह साल खास होने वाला है। आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्यों? तो हम बता दें कि यह साल लीप ईयर है। यानी इस साल 366 दिन होंगे। आइए इस मौके पर जानते हैं कि लीप ईयर क्या होता है और आखिर साल में एक दिन ज्यादा कैसे हो जाता है?

लीप ईयर का अर्थ

लीप ईयर में 366 होते हैं, जबकि सामान्य सालों में 365 दिन होते हैं। इसलिए इस साल को लीप ईयर कहा जाएगा और इस ज्यादा दिन को लीप दिवस कहा जाता है और यह दिन फरवरी में जुड़ता है। यानी इस साल फरवरी महीने में 29 दिन होंगे।

यह भी पढ़ें-Makar Sankranti 2024: यहां 5 फीट गहरी गुफा में विराजते हैं…

लीप ईयर की शुरुआत

पृथ्वी को सूर्य के एक परिक्रमा को पूरी करने में 365 दिन नहीं, बल्कि 365 दिन, 5 घंटे, 48 मिनट और 46 सेकेंड लगते हैं। इस प्रकार इस अतिरिक्त समय को प्रत्येक चार साल में एक दिन के रूप में अतिरिक्त जोड़ दिया जाता है, जिससे चार साल बाद एक साल में 366 दिन हो जाते हैं, जिसे लीप ईयर कहा जाता है।

लीप ईयर का महत्व

भले ही धरती को सूर्य की परिक्रमा पूरी करने में 365 दिन से कुछ घंटे ज्यादा लगते हैं। लेकिन, समय के साथ इनका समायोजन न किया गया तो फसल चक्र और मौसम के अध्ययन में भी भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी। लीप ईयर के समायोजन से पर्व-त्योहारों की सटीक गणना संभव हो सकती है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)