UP Politics: सपा-कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ाएगा BJP-RLD गठबंधन ! ये हैं चौंकाने वाले चुनावी आंकड़े

rld-sp-congress

UP Politics, लखनऊः किसानों के ‘मसीहा’ चौधरी चरण सिंह को ‘भारत रत्न’ देने के ऐलान के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) और राष्ट्रीय लोकदल (RLD) के बीच नजदीकियां तेजी से बढ़ने लगी हैं, जो लोकसभा चुनाव में इनके बीच गठबंधन की ओर इशारा कर रहा है। बीजेपी और आरएलडी का गठबंधन कांग्रेस और सपा के लिए बड़ी चुनौती बनने जा रहा है।

आरएलडी के साथ आने से बीजेपी को लाभ होने की बात करें, उसे सिर्फ जाट वोट पाने की राह आसान हो जाएगी। मंडल की कई विधानसभा सीटों पर जाट मतदाता भी काफी हैं। यह गठबंधन सपा-कांग्रेस को अपनी रणनीति बदलने पर भी मजबूर करेगा। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि जयंत के पाला बदलने से सपा और कांग्रेस के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो सकती है, क्योंकि उन्हें जाट बहुल सीटों पर संघर्ष करना पड़ेगा। 2022 में इन सीटों पर दोनों पार्टियों को काफी फायदा हुआ था।

चुनावी आंकड़ों पर एक नजर

चुनावी आंकड़ों पर नजर डालें तो 2022 के विधानसभा में मुरादाबाद, मेरठ और सहारनपुर मंडल में जाट-मुस्लिम गठबंधन काफी कारगार साबित हुआ था। 2017 में बीजेपी ने यहां 50 से ज्यादा सीटें जीती थीं। वहीं 2022 में बीजेपी को सिर्फ 40 सीटों पर ही सिमट गई, जबकि विपक्ष की सीटें 20 से बढ़कर 31 हो गईं।

2019 के संसदीय चुनाव में मोदी लहर के बाद भी सपा, बसपा और रालोद के गठबंधन ने सभी छह सीटों पर कब्जा कर लिया था। इनमें से बिजनौर, नगीना और अमरोहा सीटें बीएसपी के खाते में गईं, जबकि एसपी ने मुरादाबाद, संभल और रामपुर सीटें जीतीं। हालांकि रालोद ने किसी भी सीट पर चुनाव नहीं लड़ा था।

ये भी पढ़ें..Farmers Protest: किसानों को रोकने के लिए कील कांटों की घेराबंदी ! दिल्ली बॉर्डर पर बढ़ी सुरक्षा

सपा ने भाजपा पर साधा निशाना

सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ.आशुतोष वर्मा का कहना है कि जयंत चौधरी ने अभी तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की है कि वह बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। जिस तरह से उन्होंने पश्चिम में किसानों के मुद्दों पर कई लड़ाईयां लड़ीं, जिस तरह से बीजेपी ने उन पर लाठियां बरसाईं, उसे भुलाया नहीं जा सकता।

उन्होंने बीजेपी के खिलाफ बड़ा अभियान चलाया है। रालोद-सपा और कांग्रेस मिलकर भाजपा का रथ रोकने जा रहे हैं। अगर बीजेपी इंडिया गठबंधन से परेशान न होती तो वह हमारे गठबंधन के लोगों को नहीं तोड़ती। जनता सब जान चुकी है। उन्हें चुनाव में जनता जवाब देगी।

जानें भाजपा ने क्या कहा

बीजेपी प्रवक्ता आनंद दुबे का कहना है कि इंडिया गठबंधन बीजेपी के डर से बना है। इसमें शामिल सभी दल एक-दूसरे को गालियां देते थे। अब कांग्रेस ने उन्हें हार में भागीदार बनाने के लिए अपने साथ जोड़ लिया है।

कांग्रेस नहीं चाहती कि हार का ठीकरा सिर्फ राहुल गांधी पर फूटे, इसीलिए उन्होंने ये गठबंधन बनाया है। यह लोग अपने सहयोगियों को संभालने में खुद असमर्थ है। अब वे तरह-तरह के बहाने बना रहे हैं। मोदी जी एक बार फिर भारी बहुमत से जीतने जा रहे हैं। इस कारण इंडिया गठबंधन के लोग चिंतित हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)