उत्तराखंड

गौहत्या करने वाले होंगे सलाखों के पीछे, पुलिस ने कसा शिकंजा

Arrest
Dahradun News: पशुओं के अवैध वध, पशु मांस की बिक्री और तस्करी में शामिल लोगों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस ऐसे अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजेगी। देहरादून पुलिस ने सोमवार को दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों से अवैध रूप से पशुओं का वध कर रहे सात लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) देहरादून अजय सिंह ने सभी थाना प्रभारियों को अवैध रूप से पशुओं का वध करने और पशुओं के मांस की बिक्री करने वालों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं। सोमवार को पुलिस को कोतवाली पटेलनगर और सहसपुर थाना क्षेत्र में अवैध रूप से पशुओं के वध और मांस की बिक्री की सूचना मिली। पटेलनगर पुलिस ने नयानगर चौक के पास मदरसे के बायीं ओर मीट की दुकान में अवैध रूप से पशुओं का वध कर रहे फुरकान अली (40) पुत्र शेर अली निवासी नयानगर मेहूवाला माफी, वसीम (30) पुत्र मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया। मेहुवाला क्षेत्र में। यूसुफ निवासी ग्राम बढ़ापुर जिला बिजनौर हाल पता कारगी शांति विहार और शाबान (29) पुत्र रमजान निवासी तेलीवाला हाल पता शांति विहार थाना पटेलनगर को गिरफ्तार कर लिया गया। उनके कब्जे से लोहे का चापड़, चाकू, कुल्हाड़ी और 16 किलो भैंस का मांस भी बरामद किया गया।

आरोपी अवैध रूप से पशुओं का वध कर मांस बेच रहे थे।

कोसीन (22) पुत्र तासीन निवासी रामपुर कला, असलम (34) पुत्र इकराम निवासी खुजनावर थाना फतेहपुर जिला सहारनपुर, आरिफ (26) पुत्र मतलूब निवासी रामपुर कला थाना सहसपुर को पुलिस ने अवैध रूप से गोकशी करते हुए पकड़ा। सहसपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत रामपुर गांव में जानवर। वहीं साहिब (23) पुत्र फारूक निवासी रामपुर कला थाना सहसपुर देहरादून को अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया गया। उनके कब्जे से तीन कुल्हाड़ी, तीन चाकू, 160 किलो भैंस का मांस और 17,770 रुपये नकद (अवैध रूप से मांस बेचकर कमाया गया पैसा) बरामद किया गया। पुलिस ने पशु क्रूरता निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को जेल भेज दिया। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)