दिल्ली हाईकोर्ट के नए चीफ जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने ली शपथ

नई दिल्लीः न्यायमूर्ति सतीश चंद्र शर्मा ने मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। उन्हें उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने राज निवास में एक समारोह के दौरान शपथ दिलाई। तेलंगाना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, शर्मा को केंद्र सरकार की अधिसूचना के बाद दिल्ली उच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया गया है। न्यायमूर्ति विपिन सांघी, जो शर्मा की नियुक्ति से पहले दिल्ली उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश थे, उन्हें उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में स्थानांतरित कर दिया गया।

ये भी पढ़ें..राष्ट्रपति चुनावः अमित शाह से मिले हेमंत सोरेन, बाकी ब्रेक के बाद कह बढ़ाया सस्पेंस

शर्मा का जन्म 30 नवंबर 1961 को भोपल में हुआ था। उन्होंने सागर के हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय से 1984 में तीन स्वर्ण पदक के साथ एलएलबी डिग्री के टॉपर के रूप में स्नातक किया। 2003 में 42 वर्ष की आयु में, न्यायमूर्ति शर्मा को मध्य प्रदेश के उच्च न्यायालय द्वारा वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था। वह 2008 में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बने। वह 11 अक्टूबर, 2021 से तेलंगाना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे।

गौरतलब है कि देश के छह हाईकोर्ट को रविवार को उनका मुख्य न्यायाधीश मिल गया। इनमें पांच न्यायाधीशों को प्रोन्नत कर मुख्य न्यायाधीश बनाया गया है, जबकि तेलंगाना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा को स्थानांतरित कर दिल्ली हाईकोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया। बता दें कि जिस दिन वीके सक्सेना को उप राज्यपाल की शपथ लेनी थी, उसी दिन जस्टिस शर्मा को भी शपथ दिलाए जाने का कार्यक्रम था। पहले जस्टिस सांघी वीके सक्सेना को उपराज्यपाल पद की शपथ दिलाने वाले थे। फिर उपराज्यपाल सक्सेना हाईकोर्ट के नए चीफ जस्टिस को शपथ दिलाते। इस तरह एक इतिहास बनता। लेकिन ऐसा हो ना सका।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)