प्रदेश उत्तर प्रदेश Featured

आस्था ही नहीं रोजगार के केंद्र भी बनेंगे धार्मिक स्थल, कई प्रोजेक्ट पर चल रहा काम

ayodhya
लखनऊः उत्तर प्रदेश में अयोध्या, काशी और मथुरा ये तीन स्थान सनातनी समाज की आस्था के सबसे बड़े केंद्र के रूप में प्रसिद्ध हैं। हालांकि अब आस्था के ये केंद्र उत्तर प्रदेश में रोजगार के प्रमुख केंद्रों में गिने जाने वाले हैं। ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी (जीबीसी 4.0) के जरिए इन तीनों जगहों पर 48 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रोजेक्ट शुरू हो चुके हैं। इस निवेश के जरिए बड़े पैमाने पर रोजगार के दरवाजे खुल रहे हैं। अकेले इन तीन जगहों पर शुरू होने वाले टॉप-5 प्रोजेक्ट से करीब 14 हजार लोगों को रोजगार मिलने वाला है। इन स्थानों पर विशेष रूप से पर्यटक सुविधा केंद्र, वेलनेस सेंटर और होटल शुरू किये जा रहे हैं, जिसके लिए बड़ी संख्या में लोगों की आवश्यकता होगी।

भगवान राम की नगरी अयोध्या बनेगी रोजगार का माध्यम

भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या में करीब 13 हजार करोड़ रुपये की कुल 372 परियोजनाएं शुरू होने जा रही हैं। जिससे 100 से अधिक रोजगार के अवसर पैदा होंगे। इसी प्रकार पीकेएच वेंचर्स लिमिटेड द्वारा राज्य सरकार की नीति के तहत 600 करोड़ रुपये के निवेश से पर्यटक सुविधा केंद्र की स्थापना की जा रही है, जिसमें 500 कमरों का होटल बनाया जा रहा है. इससे 300 नौकरियां पैदा होंगी। वहीं, पक्का लिमिटेड 550 करोड़ रुपये की लागत से अयोध्या में कागज निर्माण इकाई स्थापित कर रही है। इसके जरिए अयोध्या में 600 से ज्यादा नौकरियां पैदा होने की संभावना है। इनोवेटर्स डिजिटल विज्ञापन प्रा. लिमिटेड द्वारा अयोध्या में 510 करोड़ रुपये की लागत से लग्जरी स्टार श्रेणी का होटल बनाया जा रहा है। यह परियोजना 100 नौकरियाँ प्रदान करेगी। वहीं, क्रेस्केंडो इंटीरियर्स 500 करोड़ रुपये से एक निजी औद्योगिक पार्क बनाने जा रहा है। इससे 100 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। इस तरह अकेले इन टॉप-5 प्रोजेक्ट्स से 1200 नौकरियां मिल रही हैं।

काशी में रोजगार के बढ़ेंगे साधन

भगवान शिव की नगरी काशी यानी वाराणसी की बात करें तो यहां करीब 19250 करोड़ रुपये की निवेश राशि से 277 परियोजनाएं शुरू की जा रही हैं। इसमें टॉप 5 प्रोजेक्ट से 1500 से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा। भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) 500 करोड़ रुपये की राशि से कंपनी के मौजूदा और उभरते व्यावसायिक क्षेत्रों (मैकेनिकल/इलेक्ट्रिकल/इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद/सिस्टम) के लिए अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) और फैब्रिकेशन/विनिर्माण/परीक्षण सुविधाएं स्थापित कर रहा है। इससे 225 नौकरियां पैदा होंगी। वहीं, रोमा बिल्डर्स एंड प्रमोटर्स प्रा. लिमिटेड 5 स्टार रिसॉर्ट, मेडिटेशन के साथ वेलनेस सेंटर, फ्रूट फार्म, क्लब हाउस और हाउसिंग सोसाइटी की मिश्रित विकास आधारित परियोजना शुरू कर रहा है। 500 करोड़ रुपये के निवेश से शुरू होने वाले इस प्रोजेक्ट से 300 लोगों को रोजगार मिलेगा। इसी तरह, गजाधर टेक्नोसिस एलएलपी आवास परियोजनाओं पर 350 करोड़ रुपये खर्च कर रही है जो क्षेत्र में 300 लोगों को रोजगार प्रदान करने में सक्षम होगी। अंश निर्माण प्रा. लिमिटेड 275 करोड़ रुपये से एक आवासीय समूह आवास परियोजना और वाणिज्यिक मॉल स्थापित कर रहा है जो 200 लोगों को रोजगार प्रदान करेगा। वहीं, जेएस रेजीडेंसी प्रा. लिमिटेड 250 करोड़ रुपये से एक होटल स्थापित करने जा रही है, जिसमें 500 लोगों को रोजगार का अवसर मिलेगा।

कृष्ण जन्मस्थली में रोजगार के बम्पर अवसर

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में लगभग 16,600 करोड़ रुपये की 415 परियोजनाओं का भूमि पूजन संपन्न हो चुका है। यहां टॉप-5 प्रोजेक्ट्स से 11 हजार से ज्यादा नौकरियां मिलने की संभावना है। इसके मुताबिक, एयर लिक्विड नॉर्थ इंडिया प्रा.लि. लिमिटेड ने 3075 करोड़ रुपये की लागत से मथुरा में उद्योगों और अस्पतालों की सेवा के लिए एक नई अत्याधुनिक वायु पृथक्करण इकाई स्थापित करने की योजना बनाई है। यह इकाई अत्याधुनिक, पूरी तरह स्वचालित और पर्यावरण अनुकूल होगी। यूनिट को तरल ऑक्सीजन (मेडिकल ऑक्सीजन सहित) 305 टीपीडी, तरल नाइट्रोजन 45 टीपीडी, तरल आर्गन 12 टीपीडी का उत्पादन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इससे 50 लोगों को रोजगार मिल सकेगा। बेनिसन 1310 करोड़ रुपये की लागत से होटल बना रहा है, जिससे कई नौकरियां मिलेंगी। केशव प्रकाशन प्रा. लिमिटेड ने स्टेशनरी आइटम, इलेक्ट्रिकल सामान उत्पाद, प्लास्टिक उत्पाद मोल्डिंग और विनिर्माण आइटम और प्रकाशन और कई अन्य उत्पादों का निर्माण शुरू कर दिया है। इस पर 1250 करोड़ रुपये का निवेश किया जा रहा है, जबकि 10 हजार नौकरियां देने की तैयारी है। यह भी पढ़ेंः-डॉ. दिनेश शर्मा बोले- शिक्षा को हथियार बनाकर देश को बनाना है विश्वगुरु आईएफपी पेट्रो प्रोडक्ट्स यूज्ड ल्यूब्रिकेटिंग ऑयल रिफाइनिंग प्लांट लगा रही है, जिस पर 1100 करोड़ रुपये के निवेश की योजना है। इससे 700 लोगों को रोजगार मिलेगा। अवाडी इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड 500 करोड़ रुपये से एसीएसआर कंडक्टर्स मैन्युफैक्चरिंग यूनिट स्थापित कर रही है जिससे 400 लोगों को रोजगार मिलेगा। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)