उत्तर प्रदेश

22 जिलों में खुलेंगी डिजिटल डॉक्टर क्लीनिक

docter
Digital Doctor Clinic: ओब्डू ग्रुप की सहायक कंपनी ओब्डू डिजिटल हेल्थ केयर प्राइवेट लिमिटेड ने ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी के जरिए उत्तर प्रदेश में डिजिटल डॉक्टर क्लीनिक की पूरी परियोजना को धरातल पर उतारने की घोषणा की। इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में ग्राउंड ब्रेकिग सेरेमनी में हिस्सा लेने पहुंचे कम्पनी के सीईओ संजय कुमार ने बताया कि यह परियोजना उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सहित बुलन्दशहर, प्रयागराज, फतेहपुर, गोण्डा, बहराइच, कन्नौज, कानपुर, सीतापुर, हरदोई, रायबरेली, मीरजापुर, गाजीपुर, वाराणसी, शाहजहांपुर, बांदा, हमीरपुर, प्रतापगढ़, भदोई, कौशाम्बी, चित्रकूट और गोरखपुर में चालू की जाएग। इसके बाद इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा। श्री कुमार ने बताया कि पूरी परियोजना के क्रियान्वयन में लगभग 10,000 करोड़ का निवेश किया जा रहा है और परियोजना के माध्यम से राज्य के 1,90,000 लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से युवाओं को रोजगार मिलेगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि डिजिटल डॉक्टर क्लीनिक टेलीमेडिसिन सिद्धांत पर कार्य करने वाली भारत की पहली परियोजना है, जो गांव और सुदूर क्षेत्र में मरीजों की स्वास्थ्य देखभाल के लिए टेलीमेडिसिन के साथ-साथ एक स्वास्थ्य से संबंधित कर्मचारी की उपस्थिति में ग्रामीण क्षेत्र की स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए धरातल पर उतरा है। यह भी पढ़ें-Madhya Pradesh Weather: सुबह से छाए बादल, मौसम विभाग ने जारी किया बारिश-ओले का अलर्ट उन्होंने बताया कि नई पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए उच्च तकनीक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन जैसी तकनीकी का उपयोग ग्रामीण तथा सुदूर क्षेत्र की स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करना तथा अशिक्षित (झोलाछाप) डॉक्टर की लापरवाही से इलाज के दौरान होने वाली मृत्यु दर को कम करना डिजिटल डॉक्टर क्लीनिक का उद्देश्य है। प्रदेश सरकार तथा ओब्डू ग्रुप के इस समझौता ज्ञापन के प्रथम चरण में 350 करोड़ के निवेश के लिए एमओयू किया गया था। जिसकी धरातल पर मांग और सफलता को देखते हुए एमओयू की राशि को बढाकर 3,350 करोड़ कर दिया गया है। डिजिटल डॉक्टर क्लीनिक में ग्रामीण अपनी ही ग्राम पंचायत में एमबीबीएस डॉक्टर द्वारा इलाज करा सकेंगे। जहां ब्लड टेस्ट की भी सुविधा होगा, जिसके लिए न्यूनतम 20 रूपए देने होंगे। जिसकी रिपोर्ट तुरंत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा डॉक्टर को मिल जाएगी। मरीज को भी यह रिपोर्ट महज तीन मिनट के अंदर प्राप्त हो जाएगी। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)