बैकफुट पर मान सरकार, हंगामे के बाद खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह का सहयोगी जेल से रिहा

khalistani-supporter amritpal

Lovepreet-singh- Toofan

चंडीगढ़ः खालिस्तानी समर्थक व कट्टरपंथी नेता अमृतपाल सिंह के नेतृत्व में अपने साथी की रिहाई की मांग को लेकर हुए जोरदार विरोध प्रदर्शन के एक दिन बाद शुक्रवार को लवप्रीत सिंह ‘तूफान’ को जेल से रिहा कर दिया गया। कट्टरपंथी अमृतपाल सिंह का सहयोगी लवप्रीत सिंह तूफान अपहरण समेत कई आरोप में गिरफ्तार किया गया था। ‘वारिस पंजाब दे’ का प्रमुख अमृतपाल भी 25 अन्य लोगों के साथ इसी मामले में आरोपी है। हालांकि शुक्रवार को कोर्ट द्वारा पुलिस के आवेदन के आधार पर उसकी रिहाई की गई।

बता दें कि अमृतपाल सिंह दुबई से लौटने के बाद सुर्खियों में आया था। गुरुवार को तलवारों और हथियारों के साथ उसके समर्थकों की पुलिस के साथ झड़प हुई थी और अजनाला में एक पुलिस स्टेशन पर जबरदस्ती घुस गए, जिसके कारण अमृतसर जिले में कई पुलिस कर्मियों को चोटें आईं। कट्टरपंथी नेता अमृतपाल लवप्रीत तूफान की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

ये भी पढ़ें..सेल में बरामद सामान पर आया सुकेश का बयान, कहा- कानूनी तौर पर मिली थी मंजूरी

इस मामले में तनाव कम करने के लिए पंजाब पुलिस कमिश्नर जसकरन सिंह ने मीडिया से कहा था कि उन्होंने लवप्रीत तूफान के निर्दोष होने के पर्याप्त सबूत दिए हैं। उन्होंने कहा था, एसआईटी (विशेष जांच दल) ने इसका संज्ञान लिया है। ये लोग अब शांतिपूर्वक तितर-बितर हो गए हैं और कानून अपना काम करेगा।

गौरतलब है कि पंजाब में खालिस्तानी समर्थकों के जोरदार विरोध के बाद मान सरकार पुलिस बैकफुट पर नजर आ गई। जिसके बाद पंजाब की अजनाला कोर्ट ने भी लवप्रीत सिंह तूफान की रिहाई का आदेश देना पड़ा। दरअसल पंजाब की भगवंत सरकार के बैकफुट पर आने का एक बड़ा कारण गुरुवार को अमृतसर में हुए जोरदार प्रदर्शन है। यहां अमृतपाल के हजारों समर्थक अजनाला पुलिस स्टेशन के बाहर पहुंचे और उन्होंने तलवारें लहराईं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)