Uncategorized Featured दिल्ली

PMLA मामले में सुप्रीम कोर्ट से पत्रकार राणा अय्यूब को नहीं मिली राहत, खारिज हुई याचिका

नई दिल्ली: सर्वोच्च कोर्ट ने मंगलवार को पत्रकार राणा अय्यूब की उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) मामले में एक विशेष अदालत द्वारा जारी समन को चुनौती दी गई थी। जस्टिस वी. रामासुब्रमण्यम और जे.बी. पारदीवाला की खंडपीठ ने कहा कि हम ट्रायल कोर्ट के समक्ष इस मुद्दे को उठाने के लिए खुला छोड़ देते हैं। हम इस याचिका को खारिज कर रहे हैं। सुनवाई के दौरान, प्रवर्तन निदेशालय ने तर्क दिया था कि अय्यूब को झुग्गीवासियों, कोविड और असम में कुछ काम के लिए एक क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म के जरिए पैसा मिला था। हालांकि, उसने पैसे को डायवर्ट किया और इसे निजी आनंद के लिए इस्तेमाल किया। अय्यूब का प्रतिनिधित्व करने वाली अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने तर्क दिया कि क्या उनके मुवक्किल को कानून द्वारा अधिकृत प्रक्रिया से व्यक्तिगत स्वतंत्रता से वंचित किया जा सकता है? उन्होंने कहा कि ईडी ने नवी मुंबई के एक बैंक में उनके मुवक्किल के निजी बैंक खाते को कुर्क किया है, जिसमें करीब एक करोड़ रुपये पड़े हैं। ग्रोवर ने जोर देकर कहा कि गाजियाबाद की अदालत का अधिकार क्षेत्र नहीं है क्योंकि कथित कृत्यों के मुंबई में होने का दावा किया गया था। यह भी पढ़ें-दिल्ली:  मेयर चुनाव टलने पर भड़के मनीष सिसोदिया, बोले- अब BJP को देंगे करारा... ईडी का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, हमने पाया कि पैसा डायवर्ट किया गया, निजी आनंद के लिए इस्तेमाल किया गया, लोग यह जाने बिना करोड़ों रुपये दान कर रहे थे कि पैसा कहां जा रहा है। शीर्ष अदालत ने 31 जनवरी को अय्यूब की याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)