IND vs SA: केपटाउन में भी बने जोहानिसबर्ग जैसे हालात, तो सीरीज जीत लेगा दक्षिण अफ्रीका !

केपटाउनः भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच केपटाउन में खेले जा रहे तीसरे व अंतिम टेस्ट मैच के हालात पहले दो मैचों के तरह दिखाई दे रहें हैं। टीमें हारी बाजी जीतती और जीते हुए रण को हारती दिखी हैं। ऐसा नजारा पहले सेंचुरियन में दिखा। फिर जोहानिसबर्ग में अब केपटाउन में भी वैसे ही स्थित बन गई है। यदि ऐसा रहा था अफ्रीका सीरीज पर कब्जा कर कर लेगा और भारत को एक बार फिर खाली हाथ वतन लौटना होगा।

ये भी पढ़ें..मकर संक्रांति के दिन खुलता है स्वर्ग का द्वार

दरअसल भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच न्यूलैंड्स में गुरुवार को तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन तक भारतीय टीम ने ऋषभ पंत (100) की शानदार नाबाद पारी की वजह से दूसरी पारी में 198 रन बनाए, जिससे साउथ अफ्रीका को 212 रन लक्ष्य दिया। दिन के खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने 29.4 ओवरों में दो विकेट खोकर 101 रन बना लिए हैं। टीम को जीतने के लिए अब सिर्फ 111 रनों की जरूरत है। वहीं, भारत को सीरीज अपने नाम करने के लिए 8 विकेट दरकरार है। जबकि कीगन पीटरसन (48) रन बनाकर क्रीज पर मौजूद हैं।

भारत को दूसरी पारी में 198 रनों पर ऑलआउट के साथ, 212 रनों का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका की शुरुआत अच्छी नहीं रही और चार चौके लगाने के बाद सलामी बल्लेबाज एडेन मार्करम 16 रन बनाकर मोहम्मद शमी की गेंद पर आउट हो गए। इसके बाद फॉर्म में चल रहे पीटरसन बल्लेबाजी के लिए आए और कप्तान एल्गर के साथ मिलकर पारी को संभालते हुए टीम के लिए महत्वपूर्ण पर रन बनाए।

अफ्रीका जीत से 142 रन दूर

दोनों ने मिलकर भारतीय गेंदबाजों पर कई चौके लगाए। इस बीच, 21वें ओवर में आर अश्विन की गेंद पर कप्तान एल्गर आउट होने से बाल-बाल बचे, जब उन्हें अंपायर द्वारा एलबीडब्ल्यू दिया, लेकिन रिव्यू के कारण वह आउट न हो सके। इस समय तक प्रोटियाज की टीम को जीतने के लिए 142 रन और चाहिए थे। इसके बाद पीटरसन भारतीय गेंदबाजों पर हावी होते दिखाई दिए और अश्विन के एक ही ओवर में दो चौके जड़ दिए।

वहीं, दूसरी छोर पर कप्तान एल्गर संभलकर रन बनाए, जिससे 29वें ओवर में टीम का स्कोर एक विकेट पर 101 रन पहुंच गया। लेकिन दक्षिण अफ्रीका को दूसरा झटका बुमराह ने दिया, जब कप्तान एल्गर (30) को पंत के हाथों कैच आउट कराया। इसी के साथ, दोनों के बीच पनप रही 78 रनों की साझेदारी भी खत्म हो गई। पीटरसन 48 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद हैं। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने दो विकेट खोकर 101 रन बना लिए। टीम को जीतने के लिए अभी भी 111 रनों की जरूरत है। वहीं, भारत को जीतने के लिए 8 विकेट चटकाने होंगे। ऐसे में चौथा दिन दोनों टीमों के लिए अहम होने वाला है।

जोहानिसबर्ग जैसे हालात

सेंचुरियन में पहली बार जीत का स्वाद चखने के बाद टीम इंडिया के हौसले बुलंद थे। सबको लगने लगा था कि अब जोहानिसबर्ग में खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट में सीरीज जीत तय है। ऐसा इसलिए क्योंकि जोहानिसबर्ग को साउथ अफ्रीका में भारत का अभेद किला माना जाता था। साउथ अफ्रीका में यही एक ग्राउंड था, जहां भारत एक भी टेस्ट मैच नहीं हारा था। इस मैदान पर खेले पिछले 5 टेस्ट में उसे 3 में जीत मिली थी, जबकि 2 टेस्ट ड्रॉ रहे थे। लेकिन, जब छठी बार टीम इंडिया जोहानिसबर्ग में साउथ अफ्रीका का सामना करने उतरी तो सारा खेल पलटा दिखा।

जहां सीरीज जीतने के सपने बुने जा रहे थे, वहां हार को दावत दे बैठे इंडियावाले. कप्तान डीन एल्गर के दूसरी पारी में बनाए नाबाद 96 रन की बदौलत साउथ अफ्रीका ने भारत को दूसरे टेस्ट में 7 विकेट से हरा दिया। ये जोहानिसबर्ग में भारत को मिली पहली टेस्ट हार थी। इसी के साथ 3 टेस्ट की सीरीज 1-1 की बराबरी पर भी आ खड़ी हुई।उधर दूसरे टेस्ट की जीत ने मेजबानों के हौसले को बुलंद करने का काम किया हो। लेकिन, जैसा अभेद किला टूटने का समीकरण और रूझान अब तक सीरीज में देखने को मिला है, अगर वही केप टाउन में दिखा तो फिर भारत के यहां कभी ना टेस्ट मैच जीत पाने की समस्या का समाधान निकल सकता है, और, अगर ऐसा हुआ तो फिर साउथ अफ्रीका में पहली टेस्ट सीरीज जीतने का ख्वाब भी पूरा होगा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)