उत्तर प्रदेश

UP ने कनेक्शन देने में राष्ट्रीय औसत को भी किया पार, घर-घर दिखने लगी नल की धार

Har Ghar Nal Yojana
Har Ghar Nal Yojana, लखनऊः उत्तर प्रदेश में युद्ध स्तर पर प्रतिदिन उपलब्ध कराये जा रहे नल कनेक्शन का असर अब आंकड़ों में भी दिखने लगा है। यूपी में नल कनेक्शन देने की गति अब राष्ट्रीय औसत से भी अधिक हो गई है। यूपी ने मंगलवार को 72.2 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों को नल का पानी उपलब्ध कराने का लक्ष्य हासिल कर लिया, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर देश में 72 प्रतिशत नल कनेक्शन उपलब्ध कराए जा चुके हैं।

मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने इस उपलब्धि पर बधाई

यह उपलब्धि हासिल करने वाला उत्तर प्रदेश एकमात्र राज्य है। जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने इस उपलब्धि पर नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग तथा जल निगम (ग्रामीण) की पूरी टीम को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि जल जीवन मिशन की हर घर जल योजना में उत्तर प्रदेश लगातार ऊंचाइयां हासिल कर रहा है। हम जल्द ही उत्तर प्रदेश के प्रत्येक ग्रामीण परिवार को नल से शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने का लक्ष्य भी पूरा करेंगे। 2019 में जब हर घर नल योजना (Har Ghar Nal Yojana) की शुरुआत हुई तब उप्र में महज 1.96 प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन था। वही 2019 में राष्ट्रीय औसत 16.81 प्रतिशत था। इस दौरान दो साल तक कोरोना महामारी के बाद भी महज चार साल में उप्र का औसत राष्ट्रीय औसत से अधिक हो गया है।

90 फीसदी घरों तक पहुंचा जल

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिदिन 40 हजार से अधिक नल कनेक्शन दिये जा रहे हैं. बुन्देलखण्ड के अधिकांश जिलों में 90 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण परिवारों को स्वच्छ पेयजल आपूर्ति की जा चुकी है। महोबा में 97.57 प्रतिशत, ललितपुर में 97.33 प्रतिशत, झाँसी में 96.40 प्रतिशत और बांदा में 95.39 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों को हर घर जल की सौगात मिल चुकी है। ये भी पढ़ें..Yogi Cabinet: यूपी में साइबर क्राइम पर लगेगी लगाम, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर वहीं विंध्य क्षेत्र में भी तेजी से नल कनेक्शन दिये जा रहे हैं। जनपद मीरजापुर में 96.27 प्रतिशत नल कनेक्शन उपलब्ध करा दिये गये हैं। पश्चिमी क्षेत्र की बात करें तो पूर्व में जनपद बागपत में 93.77 प्रतिशत, शामली में 92.94 प्रतिशत, मेरठ में 91.32 प्रतिशत तथा वाराणसी में 90 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन उपलब्ध कराकर स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति प्रारम्भ की जा चुकी है।

अब फिरोजाबाद, आगरा और मथुरा पर फोकस

प्रवक्ता ने बताया कि बुंदेलखंड और विंध्य के जिलों में हर घर तक नल से जल पहुंचाने के बाद अब सरकार का फोकस आगरा, मथुरा और फिरोजाबाद पर है। योजना के चतुर्थ फेज के तहत इन जिलों में गंगा और यमुना नदियों से पानी देने का विषेश अभियान चलाया जा रहा है। इन जिलों में जल सप्लाई पहुंचाने का कार्य दिसम्बर 2024 तक पूरा किया जाना है।

ग्रामीण युवाओं को मिल रहे रोजगार अवसर

सरकारी प्रवक्ता के अनुसार उत्तर प्रदेश में जल जीवन मिशन की ग्रामीण परिवारों को हर घर जल पहुंचाने की योजना का कार्य युद्ध स्तर पर पूरा किया जा रहा है। योजना से ग्रामीण युवाओं को रोजगार के मौके भी दिये जा रहे हैं। अब तक सात लाख से अधिक युवाओं को प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन, मोटर मैकेनिक, फिटर, राजमिस्त्री और पम्प ऑपरेटर्स का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 4,80,000 से अधिक ग्रामीण महिलाओं को पानी जांच की ट्रेनिंग दी जा चुकी है। (अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)