Featured दिल्ली

करुणा की भावना, सहानुभूति न्यायिक संस्थानों को बनाए रखती है: सीजेआई

Justice D.Y. Chandrachud.(photo:Twitter)

नई दिल्ली: भारत के प्रधान न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ ने शनिवार को कहा कि उन्हें लगता है कि न्यायिक संस्थानों को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए करुणा, सहानुभूति और जंगल में एक नागरिक के वादी रोने का जवाब देने की क्षमता है। एक प्रमुख मीडिया आउटलेट द्वारा आयोजित एक शिखर सम्मेलन में चंद्रचूड़ ने कहा, "प्रौद्योगिकी, बुनियादी ढांचा, रिक्तियों को भरना .. ये हमारे मिशन में मील के पत्थर हैं। लेकिन सबसे ऊपर, मुझे लगता है कि लंबे समय तक न्यायिक संस्थानों को बनाए रखने की आपकी भावना है करुणा और सहानुभूति।"

उन्होंने कहा कि "जब किसी के पास सिस्टम में अनसुनी आवाजों को सुनने की क्षमता है और फिर कोशिश करें और देखें कि कानून और न्याय के बीच संतुलन कहां है, तो आप वास्तव में एक न्यायाधीश के रूप में अपने मिशन को पूरा कर सकते हैं। औपनिवेशिक युग का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि कभी-कभी कानून और न्याय जरूरी नहीं कि एक ही रेखीय पथ का अनुसरण करें। उन्होंने कहा, "हम जानते हैं कि औपनिवेशिक काल में जिस तरह का कानून आज भी कानून की किताबों में मौजूद है, उसे दमन के साधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता था।"

ये भी पढ़ें-सेठ एमआर जयपुरिया स्कूल ने मनाया अपना 30वां स्थापना दिवस

सीजेआई ने कहा, "तो हम नागरिकों के रूप में यह कैसे सुनिश्चित करते हैं कि कानून न्याय का एक साधन बन जाए, न कि उत्पीड़न का? मुझे लगता है कि कुंजी वह तरीका है, जिससे हम कानून को संभालते हैं, जिसमें सभी निर्णय लेने वाले शामिल होते हैं और नहीं सिर्फ जज।" बुधवार को भारत के 50वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभालने वाले चंद्रचूड़ ने यह भी कहा कि कानूनी पेशे की संरचना 'सामंती, पितृसत्तात्मक और महिलाओं के अनुकूल नहीं है' और प्रवेश के लिए एक लोकतांत्रिक और योग्यता आधारित प्रक्रिया की जरूरत है। अधिक महिलाओं और समाज के हाशिए के वर्गो को कानूनी व्यवस्था में शामिल करना जरूरी है।

उन्होंने कहा, "एक बात जो हमें समझने की जरूरत है, वह यह है कि न्यायपालिका के पास एक फीडिंग पूल है। फीडिंग पूल जो निर्धारित करता है कि कौन न्यायपालिका में प्रवेश करता है, वह काफी हद तक कानूनी पेशे की संरचना पर निर्भर है। सीजेआई ने कहा, "इसलिए जब हम न्यायपालिका में अधिक महिलाओं के होने की बात करते हैं, तो हमारे लिए महिलाओं तक पहुंच बनाकर भविष्य के लिए बिल्डिंग ब्लॉक्स रखना भी उतना ही आवश्यक है। पहला कदम वरिष्ठ वकीलों के कक्षों में प्रवेश करना है जो एक ओल्ड बॉयज क्लब है।"

उन्होंने कहा, "आप अपने कनेक्शनों को टैप करके कक्षों तक कैसे पहुंच प्राप्त करते हैं? जब तक हमारे पास कानूनी पेशे में प्रवेश बिंदु तक लोकतांत्रिक और योग्यता-आधारित पहुंच नहीं है, तब तक हमारे पास अधिक महिलाएं नहीं होंगी और हाशिए के वर्गो से अधिक लोग नहीं होंगे।"

अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें