Anandiben Patel Birthday: 82 साल की हुई राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, एक दुर्घटना के बाद ऐसे हुई राजनीति में एंट्री

Anandiben-Patel-Birthday

Anandiben-Patel-Birthday

Anandiben Patel Birthday: उत्तर प्रदेश की गवर्नर व गुजरात की पूर्व सीएम आनंदीबेन पटेल आज यानी 21 नवंबर को अपना 81वां जन्मदिन मना रही हैं। उनके जन्मदिन पर बधाईयों का ताता लगा हुआ है। पीएम मोदी सीएम योगी समेत भाजपा के तमाम नेताओं ने उन्हें जन्मदि की बधाई दी है। 22 नवंबर 1941 को जन्मी आनंदीबेन पटेल करीब तीन दशक तक गुजरात की राजनीति में सक्रिय रहीं और पीएम नरेंद्र मोदी की विश्वासपात्र मानी जाती हैं।

भले ही वह लंबे समय से गुजरात की राजनीति से बाहर हैं, लेकिन आज भी गुजरात की राजनीति में आनंदीबेन पटेल का जिक्र किया जाता है। जब पीएम मोदी देश के प्रधानमंत्री बने, तो गुजरात के मुख्यमंत्री का पद आनंदीबेन को मिला। वह गुजरात की पहली महिला सीएम बनीं। आनंदीबेन पटेल को गुजरात की ‘आयरन लेडी’ के नाम भी जाना जाता है। आनंदीबेन पटेल का जन्म गुजरात के एक गांधीवादी परिवार में हुआ था। वह बचपन से ही एथलेटिक्स और खेल-कूद में सक्रिय थीं। वहीं उन्होंने कई प्रतिस्पार्धाओं को जीत पुरस्कार भी प्राप्त किए।

ये भी पढ़ें..Uttarkashi Tunnel Collapse: सुरंग में फंसे मजदूरों तक पहुंचा कैमरा, सभी सुरक्षित, वीडियो आया सामने

1987 में राष्ट्रपति बहादुरी अवॉर्ड से नवाजा गया

आनंदीबेन पटेल की शादी शादी 29 मई 1962 को मफतभाई पटेल के साथ हुई थी, जो उन दिनों गुजरात के कद्दावर नेताओं में से एक थे। आनंदीबेन पटेल अहमदाबाद के मोहिनाबा गर्ल्‍स हाई स्कूल में गणित की शिक्षक और फिर प्रिसिंपल रही। उस दौरान हुए एक दुर्घटना के बाद उनका राजनीति में प्रवेश हुआ।

governor-anandiben-patel

आपको बता दें कि आनंदीबेन पटेल उस वक्त चर्चा में आई जब साल 1987 में वह स्कूल की लड़कियों के साथ पिकनिक पर गई हुई थीं। उसी दौरान दो लड़कियां जलाशय में फिसल गईं। वहीं उन लड़कियों को डूबता देख आनंदीबेन पटेल बहादूरी दिखाते हुए ने जलाशय में छलांग लगा दी और लड़कियों को सुरक्षित बाहर निकाल लाईं। जिसके बाद उन्हें राष्ट्रपति बहादुरी अवॉर्ड से नवाजा गया।

वीरता पुरस्कार से सम्मानित होने के बाद उन पर बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की नजर पड़ी और नरेंद्र मोदी के कहने पर वह गुजरात प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष बनकर बीजेपी में शामिल हो गईं। इसके बाद फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। आनंदीबेन पटेल ने पार्टी संगठन को मजबूत करने की जिम्मेदारी संभाली और उनके अच्छे काम को देखते हुए साल 1994 में उन्हें पार्टी ने राज्यसभा भेज दिया। फिर साल 1998 से 2012 तक वह लगातार गुजरात विधानसभा की सदस्य बनीं।

Anandiben-Patel

2014 में बनी गुजरात की पहली मुख्यमंत्री

इसके अलावा केशुभाई पटेल की सरकार में उन्हें शिक्षामंत्री बनाया गया। फिर 2007-14 तक राजस्व मंत्री पद की जिम्मेदारी संभाली। इसके बाद नरेंद्र मोदी के पीएम बनने के बाद 22 मई 2014 को आनंदीबेन पटेल गुजरात की पहली महिला सीएम बनी। हालांकि 2015 में निजी कारणों के चलते उन्होंने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया।

साल 2018 को आनंदीबेन पटेल ने एमपी का कार्यभार संभाला और 15 अगस्त 2018 में उन्हें मध्य प्रदेश के साथ छत्तीसगढ़ के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया। वर्तमान समय में वह उत्तर प्रदेश की राज्यपाल पद की जिम्मेदारियां संभाल रही हैं। उनके दो बच्चे हैं, संजय और अनार।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)