अखिलेश ने किया प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण मिलने से इनकार, बीजेपी पर साधा निशाना

0
10

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने आमंत्रण के बावजूद 22 जनवरी को अयोध्या में प्रभु श्री राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल न होने की सुर्खियों पर ने विराम लगाते हुए बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि उन्हें प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि जब इस बारे में पूछताछ की गई तो सच सामने आया कि अभी तक कोई आमंत्रण नहीं मिला है। कोरियर से भी कोई आमंत्रण नहीं मिला है।

शिकागो के भाषण का किया जिक्र

ये बातें उन्होंने शुक्रवार को पार्टी मुख्यालय में स्वामी विवेकानन्द जयंती पर कैलेंडर जारी करते हुए पत्रकारों से कहीं। उन्होंने कहा कि कैलेंडर में स्वामी जी के सिद्धांतों और संघर्ष की कहानी है। दुनिया भर के लोग विवेकानन्द जी से प्रेरित हुए हैं। वे सदैव समाज को बेहतर बनाने के लिए कार्य करते रहे। उनके शिकागो भाषण को पूरी दुनिया मानती है। उनके उस भाषण का जिक्र लोगों ने हर जगह किया। मुझे ऐसे धर्म से होने पर गर्व है।

अखिलेश ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने विश्व को सहिष्णुता, सार्वभौमिक स्वीकृति की शिक्षा दी है। हम न केवल सार्वभौमिक सहिष्णुता में विश्वास करते हैं बल्कि हम सभी धर्मों को सच्चा मानते हैं। मुझे ऐसे राष्ट्र से होने पर गर्व है। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका रास्ता स्वामी विवेकानन्द का रास्ता नहीं है।

पढ़ाई करके डिलीवरी का काम कर रहे युवा

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने जो रास्ता अपनाया है वह समाज को बांटने का रास्ता है, सहिष्णुता का नहीं। स्वामी विवेकानन्द द्वारा दी गई शिक्षाओं की सर्वमान्यता भाजपा के लिए रास्ता नहीं है। इसलिए आज जब हम स्वामी विवेकानन्द को याद कर रहे हैं तो आइए संकल्प लें कि हम उनके बताये रास्ते पर चलेंगे।

अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी भारत की अर्थव्यवस्था को जिस रास्ते पर ले गई है, आने वाले समय में नौकरियों का सपना भूल जाइए। सोचिए हमारी अर्थव्यवस्था कैसी हो गई है। पढ़ाई पूरी कर डिग्री हासिल कर चुके युवाओं को डिलीवरी ब्वॉय के तौर पर नौकरी मिल रही है। जब भी समाजवादी सरकार बनेगी हम उन्हें सम्मानजनक रोजगार दिलाने का काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि आयुष्मान में जरूर घोटाला हुआ है, सब कुछ सामने आ गया है। सरकार पूरी मदद नहीं करती। कैंसर इंस्टीट्यूट तैयार हो जाता, तो गरीबों को मुफ्त इलाज मिलता। आप इस सरकार से कोई उम्मीद नहीं कर सकते। गारंटी उसी तरह की घंटी है जैसी कोरोना के दौरान आपसे ताली-थाली बजाने को कहा गया था।

यह भी पढ़ेंः-लव-कुश रथ यात्रा में शामिल BJP के हवन कुंड में लगी भीषण आग, मचा हड़कंप

सपा अध्यक्ष ने कहा कि सरकार पिछड़े वर्गों, दलितों और अल्पसंख्यकों (पीडीए) के साथ भी ऐसा ही भेदभाव करेगी। पूरा बजट किसी शहर, किसी आयोजन में लगा दिया जाएगा और हमारे पिछड़े दलित और अल्पसंख्यक भाइयों का बजट काटा और कम किया जा रहा है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)