फर्जी कंपनी  बनाकर नौकरी के नाम पर 900 लोगों से ठगी, 7 चढ़े पुलिस के हत्थे

korba-child-dead-body-found

jamshedpur-crime

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने सोमवार को सात लोगों की गिरफ्तारी के साथ एक अंतरराज्यीय धोखाधड़ी गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया है, जो खाड़ी देशों में वीजा और नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों को ठगते थे। एक अधिकारी ने बताया कि कई फर्जी कंपनियों के जरिए काम करने वाला यह गिरोह Naukri.com जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से दुबई स्थित कंपनियों का डेटा इकट्ठा करता था।

आरोपियों की पहचान शंकर कुमार शाह उर्फ महेश कुमार (28), सोमराज उर्फ सोम नाथ कुमार (26), इनामुल हक अंसारी उर्फ रिजवान अली उर्फ इकराम अली (32), ताबिश हासमी उर्फ विक्रांत सिंह (26), मोहम्मद तबरेज आलम के रूप में हुई है। । हुई। (26), तारिक शमश (26) और एकराम मुजफ्फर (19)। अधिकारी ने बताया कि इन लोगों ने खाड़ी देशों में वीजा और नौकरी की पेशकश कर 900 से अधिक लोगों को ठगा है। वे दुबई में प्रतिष्ठित कंपनियों के पंजीकृत एजेंटों की ओर से निर्दोष लोगों को कॉल और ईमेल भेजते थे। इनमें से अधिकतर पीड़ित केरल से हैं।

Naukri.com जैसे प्लेटफॉर्म से चुराते थे डिटेल्स

विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) रवींद्र सिंह यादव ने खुलासा किया कि पीड़ितों को न्यू विजन एंटरप्राइजेज कंपनी सहित फर्जी कंपनियों की टेली-कॉलिंग सुविधाओं से फोन कॉल और ईमेल प्राप्त हुए। इन कंपनियों ने एक्टटेल कंस्ट्रक्शन एलएलसी, दुबई जैसी वास्तविक खाड़ी-आधारित कंपनियों के पंजीकृत एजेंटों का प्रतिनिधित्व करने का झूठा दावा किया। न्यू विजन एंटरप्राइजेज के एजेंटों ने पीड़ितों को बताया कि उन्हें Naukri.com और वर्क इंडिया ऐप जैसे प्लेटफार्मों पर उनके प्रोफाइल के आधार पर नौकरियों के लिए चुना गया था। वीजा प्रक्रिया के लिए उन्होंने 59,000 रुपये की मांग की, जिसमें मेडिकल चेकअप के लिए 1,000 रुपये, दस्तावेजीकरण के लिए 3,000 रुपये और परामर्श शुल्क के रूप में 55,000 रुपये शामिल थे। यादव ने कहा, “शिकायतकर्ताओं ने अनुरोधित राशि का भुगतान कर दिया, लेकिन जालसाजों ने उनके कॉल और संदेशों का जवाब देना बंद कर दिया, अंततः शिकायतकर्ताओं या संपत्ति के मालिक को सूचित किए बिना कार्यालय खाली कर दिया।”

मुख्य आरोपी तक ऐसे पहुंची पुलिस

जांच के दौरान, पुलिस टीम ने कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर), ग्राहक आवेदन फॉर्म (सीएएफ), इंटरनेट प्रोटोकॉल डिटेल रिकॉर्ड (आईपीडीआर), रिचार्ज हिस्ट्री, बैंक स्टेटमेंट, आईपी लॉग, ऑनलाइन वॉलेट और जीएसटी रिकॉर्ड एकत्र किए। स्पेशल सीपी ने कहा कि उन्होंने जालसाजों द्वारा इस्तेमाल किए गए मोबाइल नंबरों से जुड़े ईमेल पते की पहचान करने के लिए ओपन सोर्स इंटेलिजेंस (OSINT) का भी इस्तेमाल किया। अधिक जानकारी इकट्ठा करने के लिए Google, YouTube Facebook, टेलीग्राम, ऑनलाइन मनी वॉलेट और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म से अतिरिक्त डेटा प्राप्त किया गया था। व्यापक डेटा विश्लेषण के बाद, ‘लाइफ लॉन्ग ट्रैवल्स’ नाम की एक कंपनी की पहचान की गई, जिसने टीम को दिल्ली के जाकिर नगर स्थित मुख्य साजिशकर्ता इनामुल हक अंसारी तक पहुंचाया।

ऐसे आये गिरफ्तार में

स्पेशल सीपी ने बताया कि जाकिर नगर में जाल बिछाया गया, जिससे सात आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता मिली। अधिकारी ने कहा, “पूछताछ के दौरान इनामुल हक अंसारी ने रैकेट का मास्टरमाइंड होने की बात कबूल की। उसने स्थानीय बेरोजगार लोगों को लालच दिया, उनके लिए फर्जी पहचान बनाई, उनके नाम पर बैंक खाते खोले और एक फर्जी विदेशी ट्रैवल कंपनी बनाई।” अधिकारी ने कहा कि इसके बाद उसने फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी सेवाओं का विज्ञापन किया, जिसमें खाड़ी देशों और मलेशिया में वर्क परमिट प्राप्त करने के लिए परामर्श प्रदान करने का दावा किया गया। उन्होंने वीज़ा सेवाएं, चिकित्सा शुल्क और वीज़ा शुल्क की भी पेशकश की। की आड़ में प्रति व्यक्ति करीब 60 हजार रुपये फर्जी तरीके से वसूले। अधिकारी ने कहा कि उसने देश के विभिन्न हिस्सों से लगभग एक हजार लोगों को धोखा दिया है, जिनमें से अधिकांश पीड़ित केरल से हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)