पूर्व CM जगन मोहन रेड्डी के निर्माणाधीन दफ्तर पर चला बुलडोजर

47
ysrcp-office-demolished-by-bulldoze

अमरावतीः  सत्ता हाथ से जाते ही आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं। इस बीच राजधानी अमरावती में निर्माणाधीन वाईएसआर कांग्रेस के दफ्तर पर चंद्रबाबू नायडू का बुलडोजर चल गया है। वहीं YSRCP प्रमुख जगन मोहन रेड्डी ने सीएम पर बदले की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

दरअसल गुंटूर जिले के ताड़ेपल्ली में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के कार्यालय के निर्माण को नगर निगम के अधिकारियों ने शनिवार तड़के ध्वस्त कर दिया। बताया जाता है कि यह निर्माण अवैध था। मंगलागिरी-ताडेपल्ली नगर निगम (MTMC) के अधिकारियों ने शनिवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे निर्माणाधीन इमारत पर बुलडोजर चला दिया।

YSRCP  ने नोटिस को हाईकोर्ट में दी थी चुनौती 

इमारत को ध्वस्त करने से पहले कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (CRDA) ने नोटिस जारी किया था। YSRCP  ने नोटिस को चुनौती देते हुए शुक्रवार को हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। पार्टी प्रवक्ता ने दावा किया कि अदालत ने ध्वस्तीकरण की कार्रवाई पर रोक लगाने का आदेश दिया है और पार्टी के वकील ने सीआरडीए कमिश्नर को भी इसकी जानकारी दी है।

सीआरडीए और एमटीएमसी के मुताबिक YSRCP का कार्यालय सिंचाई विभाग की जमीन पर बनाया जा रहा था। आरोप है कि जगन मोहन रेड्डी सरकार के दौरान जमीन को सस्ते दामों पर लीज पर दिया गया था। यह भी आरोप है कि सीआरडीए और एमटीएमसी से मंजूरी लिए बिना निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया था।

ये भी पढ़ेंः- कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने बंगाल अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा !

जगन मोहन रेड्डी नायडू सरकार की निंदा

जगन मोहन रेड्डी ने नई टीडीपी नीत सरकार की कार्रवाई की निंदा की है। ‘एक्स’ पर अपने पोस्ट में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू बदले की भावना से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट के आदेश की अवहेलना करते हुए बुलडोजर से कार्यालय को ध्वस्त कर दिया गया। रेड्डी ने कहा कि नायडू यह संदेश दे रहे हैं कि अगले पांच साल उनका शासन कैसा रहने वाला है। हालांकि, YSRCP प्रमुख ने कहा कि पार्टी इन धमकियों और राजनीतिक प्रतिशोध के आगे नहीं झुकेगी।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)