यशवंत सिन्हा होंगे राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार! सर्वसम्मति से हुआ फैसल

नई दिल्लीः विपक्षी दलों ने मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति पद के लिए अपना सर्वसम्मत उम्मीदवार घोषित किया, जिसके लिए 18 जुलाई को चुनाव होना है। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने संसद एनेक्सी में संयुक्त विपक्षी दलों की बैठक के तुरंत बाद मीडियाकर्मियों से कहा, “हमने (विपक्षी दलों) ने सर्वसम्मति से फैसला किया है कि यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति चुनाव के लिए हमारे आम उम्मीदवार होंगे।” बैठक को राकांपा के शीर्ष नेता शरद पवार ने बुलाया था और इसमें कांग्रेस, टीएमसी, समाजवादी पार्टी, भाकपा, माकपा, नेशनल कॉन्फ्रेंस और राजद के नेताओं ने भाग लिया था।

ये भी पढ़ें..शिक्षक नियुक्ति भ्रष्टाचार : कोर्ट ने माणिक भट्टाचार्य के बेटे-पत्नी-बेटी की संपत्ति का मांगा ब्यौरा

उन्होंने कहा, “सार्वजनिक जीवन में अपने लंबे और प्रतिष्ठित करियर में, सिन्हा ने विभिन्न क्षमताओं में देश की सेवा की है। एक सक्षम प्रशासक, कुशल सांसद, और एक प्रशंसित केंद्रीय वित्त और विदेश मंत्री, वह भारतीय गणराज्य के धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक चरित्र और इसके संवैधानिक मूल्यों को बनाए रखने के लिए विशिष्ट रूप से योग्य हैं।” “आदर्श रूप से, सरकार और विपक्ष के एक सर्वसम्मति उम्मीदवार को गणतंत्र के सर्वोच्च पद के लिए चुना जाना चाहिए। हालांकि, इसके लिए पहल सरकार द्वारा की जानी चाहिए थी। मोदी सरकार ने इस दिशा में कोई गंभीर प्रयास नहीं किया।”

इससे पहले, सिन्हा ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से इस्तीफा दे दिया था, जिससे उनके नाम को विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में राष्ट्रपति पद के लिए अंतिम रूप दिए जाने की अटकलें लगाई जा रही थीं। पिछले हफ्ते, विपक्षी दलों ने इसी तरह की बैठक बुलाई थी, जिसमें कई नेता चाहते थे कि राकांपा नेता शरद पवार विपक्षी उम्मीदवार हों। हालांकि पवार ने इस पेशकश को ठुकरा दिया था। राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को और मतगणना 21 जुलाई को होनी है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)