Modi 3.0 Cabinet: कौन हैं पहली बार मंत्री बना ये धनकुबेर सांसद, जानें कहां से आता है अथाह पैसा?

9
Modi

Chandra Sekhar Pemmasani, नई दिल्लीः Modi सरकार 3.0 (Modi 3.0 Cabinet ) में कई नये और युवा सांसदों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। खास तौर पर यदि सहयोगी दलों की बात की जाए तो तेलुगु देशम पार्टी (TDP) के कोटे से 36 वर्षीय राम मोहन नायडू को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। राम मोहन नायडू आंध्र प्रदेश की श्रीकाकुलम से लोकसभा सांसद हैं।

कौन हैं पहली बार मंत्री बने धनकुबेर सांसद ?

वह तेलुगू देशम पार्टी के महासचिव होने के साथ-साथ टीडीपी के वरिष्ठ नेता रहे येरेन नायडू के बेटे हैं। तेलुगु देशम पार्टी से ही चंद्रशेखर पेम्मासानी को राज्य मंत्री बनाया गया है। वह गुंटूर सीट से लोकसभा चुनाव जीते हैं। युवा चंद्रशेखर का यह पहला चुनाव है। चंद्रशेखर ने अमेरिका से पढ़ाई की है। सबसे खास बात है कि पेम्मासानी देश के सबसे अमीर सांसद हैं। एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) के मुताबिक, उनके चुनावी हलफनामे के मुताबिक पेम्मासानी के पास 5,700 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है।

Chandra Sekhar Pemmasani: 5,700 करोड़ की अथाह संपत्ति के मालिक

बता दें कि 5,700 करोड़ रुपये की संपत्ति के मालिक डॉ. चंद्रशेखर पेम्मासानी ने लोकसभा चुनाव 2024 में कुल 864948 वोट हासिल किए। जीत का अंतर 3,44695 रहा। पेम्मासानी से चुनाव हारने वाले YSRCP के किलारी वेंकट रोसैया को 520253 वोट मिले। दरअसल पेम्मासानी टीडीपी के ही एक दूसरे अमीर उम्मीदवार गल्ला जयदेव की जगह चुनाव लड़ा था। अमारा राजा ग्रुप (Amara Raja Group ) के एमडी गल्ला जयदेव ने 2019 में 680 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की थी और चुनाव से पहले राजनीति से संन्यास ले लिया था।

Chandra Sekhar Pemmasani पेशे से डॉक्टर हैं 

डॉ. पेम्मासानी पेशे से डॉक्टर हैं और उन्होंने 1999 में डॉ. एनटीआर यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज (Dr NTR University of Health Sciences ) से MBBS की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद वे इंटरनल मेडिसिन में एमडी करने के लिए अमेरिका के पेनिसेलिवेनिया के गीसिंजर मेडिकल सेंटर (Geisinger Medical Centre) चले गए। वह अमेरिका में ही रहते है। टीडीपी की माने तो वे नियमित रूप से अपने पैतृक स्थान पर जाते रहते हैं।

ये भी पढ़ेंः- युवाओं के उद्यमी बनाने में योगी सरकार का शानदार प्रदर्शन, देखें रिपोर्ट

अमेरिका में जमीन, 100 से ज्यादा कंपनियों में निवेश 

चुनावी हलफनामे के मुताबिक पेम्मासानी के पास चल संपत्ति 2,316 करोड़ रुपये से ज्यादा की है। उन्होंने 100 से ज्यादा कंपनियों में निवेश कर रखा है। वहीं उनकी पत्नी कोनेरू रत्नी के पास 2,289 करोड़ रुपये की चल संपत्ति है। उन्होंने भारत और अमेरिका दोनों में अपनी आय का खुलासा किया है। उनके पास दो मर्सिडीज कार, एक टेस्ला और एक रोल्स रॉयस कार है। पेम्मासानी के पास हैदराबाद, तेनाली और अमेरिका में जमीन और संपत्ति है।

डॉ. चंद्रशेखर (Chandra Sekhar Pemmasani) के पास 2,00,24,245 रुपये और श्रीरत्ना के पास 34,82,22,507 रुपये की अचल संपत्ति है। 2022-23 में उनकी आय 3,68,840 रुपये थी जबकि उन्हीं वर्षों में उनकी पत्नी की आय 1,47,680 रुपये थी। इतना ही नहीं पेम्मासानी पर 1,038 करोड़ रुपये की देनदारियां भी हैं। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता के उल्लंघन के लिए भी FIR दर्ज है, जो चुनाव के संबंध में अवैध भुगतान और रिश्वतखोरी से जुड़ा हुआ है।

मोदी कैबिनेट में कई युवाओं को मिली जगह

गौरतलब है कि मोदी 3.0 कैबिनेट में इस बार कई युवाओं को मौका मिला है। पेम्मासानी के अलावा एनडीए के अन्य महत्वपूर्ण घटक दल, लोक जनशक्ति रामविलास के अध्यक्ष चिराग पासवान को भी केंद्रीय मंत्री बनाया गया है। वहीं जनता दल सेक्युलर के एचडी कुमार स्वामी को भी मोदी कैबिनेट में जगह दी गई है। वह कर्नाटक के मांड्या से सांसद हैं। कुमार स्वामी दो बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। वह पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा के बेटे हैं। इनके अलावा एनडीए के एक अन्य सहयोगी दल आरएलडी के अध्यक्ष जयंत चौधरी को भी केंद्र सरकार में मंत्री बनाया गया है। वह स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री बने हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)