पश्चिम बंगालः उपचुनाव को लेकर प्रशासन ने कसी कमर

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में भवानीपुर, शमशेरगंज और जंगीपुर विधानसभा सीट पर होने वाले चुनाव को लेकर प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। चुनाव आयोग ने शांतिपूर्वक मतदान के लिए 52 कंपनी केंद्रीय बलों की तैनाती करने का निर्णय लिया है। इनमें से 15 कंपनी केंद्रीय बल पहले ही बंगाल पहुंच चुका है। 52 में से 19 कंपनी केंद्रीय बलों की तैनाती भवानीपुर विधानसभा में होगी जबकि बाकी 33 कंपनी केंद्रीय बलों को शमशेरगंज और जंगीपुर में बांटा जाएगा। चुनाव आयोग के सूत्रों ने बताया है कि सीआरपीएफ की सात कंपनी, बीएसएफ के चार कंपनी, एसएसबी की दो कंपनियां और सीआईएसएफ तथा आईटीबीपी की एक-एक कंपनी तैनात की जा चुकी है। केंद्रीय बलों के जवानों ने चुनावी इलाकों में गश्ती लगानी शुरू कर दी है।

दरअसल, भवानीपुर विधानसभा सीट पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार हैं और उनका जीतना उनके मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए जरूरी है। उनके खिलाफ भाजपा ने अधिवक्ता प्रियंका टिबरेवाल और माकपा ने श्रीजीव विश्वास को उम्मीदवार बनाया है।

बंगाल के हालातों को देखते हुए तीनों क्षेत्रों में शांतिपूर्वक तरीके से मतदान संपन्न कराना चुनाव आयोग के लिए बड़ी चुनौती है। आयोग को किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए ही केंद्रीय बलों का सहारा लेना पड़ रहा है। माना जा रहा है कि 52 कंपनी केंद्रीय बलों की तैनाती शांतिपूर्वक मतदान संपन्न कराने में मददगार साबित होगी।

यह भी पढ़ेंः-पश्चिम बंगाल में बढ़ाई गई लॉकडाउन की पाबंदियां, नहीं चलेगी लोकल ट्रेन

इधर, राज्य के मुख्य सचिव ने भी बुधवार को चुनावी क्षेत्रों के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी तरह की हिंसा अथवा आपराधिक वारदात को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)