up-historical-heritages.

लखनऊः सूबे (UP) को पर्यटन के लिहाज से देश का सबसे पसंदीदा डेस्टिनेशन बनाने की दिशा में योगी सरकार पूरी शिद्दत से काम कर रही है। इस क्रम में योगी सरकार ने प्रदेश की नौ ऐतिहासिक धरोहरों को लग्जरी होटल सहित एडैप्टिव रीयूज एसेट्स में बदलने की प्रक्रिया को भी शुरू कर दिया है। 490 करोड़ के निवेश के जरिए इन ऐतिहासिक धरोहरों के कायाकल्प का खाका खींचा गया है। इसके लिए एजेंसियों के चयन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है।

इन इमारतों की बदलेगी सूरत

कार्ययोजना के तहत राजधानी के छतरमंजिल के कायाकल्प के लिए 100 करोड़ और मीरजापुर जनपद के चुनार फोर्ट व झांसी के बरुआ सागर फोर्ट के कायाकल्प के लिए 100-100 करोड़ के निवेश से मेकओवर की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। लखनऊ की कोठी गुलिस्तान-ए-इरम, कोठी दर्शन विलास व कोठी रौशन-उद्दौला में 50-50 करोड़ के निवेश से मेकओवर की प्रक्रिया पूरी होगी।

इसके अलावा मथफरा के बरसाना स्थित जल महल, कानपुर देहात के शुक्ला तालाब और कानपुर नगर के टिकैत राय बारादरी को 30-30 करोड़ के निवेश के जरिए एडैप्टिव रीयूज एसेट्स में बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

ये भी पढ़ें..इंफाल हाई अड्डे के पास UFO दिखने से मचा हड़कंप, तलाश में लगाए गए राफेल लडाकू विमान

गौरतलब है कि योगी सरकार प्रदेश को विरासत पर्यटन के लिए एक पसंदीदा डेस्टिनेशन बनाने के लिए प्रयासरत है। निजी निवेश के जरिए विरासत सम्पत्तियों को उनका प्राचीन गौरव लौटाने की दिशा में यह महत्वपूर्ण पहल है। इसके तहत इन स्थानों को वेलनेस सेंटर, हेरिटेज होटल, लग्जरी रिजॉर्ट्स, म्यूजियम, बुटीके रेस्तरां, मैरिज डेस्टिनेशन व वेडिंग वेन्यू, एडवेंचर टूरिज्म स्पॉट, होमस्टे, थीम पार्क समेत अन्य पर्यटक स्थलों में बदला जाएगा।

मिर्जापुर के चुनार व प्रतापगढ़ के भूपिया मऊ भी शामिल

इसकी जिम्मेदारी उप्र पर्यटन विभाग को सौंपी गई है। इसके अलावा पर्यटन विभाग द्वारा प्रदेश के 10 राही टूरिस्ट बंगलों के विकास के लिए लीज आधारित प्राइवेट सेक्टर पार्टिसिपेशन (पीएसपी) की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। इसमें बाराबंकी देवा शरीफ, सीतापुर के हरगांव, शामली के कांढला, एटा के सोरों व पटना पक्षी विहार, बुलंदशहर के खुरजा, अमेठी के मुंशीगंज, बदायूं के काछला, मिर्जापुर के चुनार व प्रतापगढ़ के भूपिया मऊ शामिल हैं।

(रिपोर्ट-शरद त्रिपाठी, लखनऊ)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)