UNSC में अमेरिका समर्थित संघर्ष विराम प्रस्ताव पारित, अमेरिकी राजदूत ने कही ये बात

12

न्यूयॉर्क: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) ने सोमवार को गाजा पट्टी (Gaza Strip) के लिए अमेरिका समर्थित युद्ध विराम प्रस्ताव (Ceasefire proposal) पारित कर दिया। परिषद के 15 सदस्यों में से 14 ने इसके पक्ष में मतदान किया। रूस ने मतदान में भाग नहीं लिया। वह अनुपस्थित रहा। रूस के पास वीटो पावर (Veto Power) है। न्यूयॉर्क टाइम्स अखबार (New York Times Newspaper) ने रिपोर्ट में लिखा है कि एक तरह से परिषद ने वाशिंगटन को कूटनीतिक जीत दिलाई है, क्योंकि इससे पहले अमेरिका ने परिषद के समक्ष पिछले तीन युद्ध विराम प्रस्तावों पर वीटो लगा दिया था।

शांति के लिए हुआ मतदान

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पारित होने के बाद संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत सुश्री लिंडा थॉमस ग्रीनफील्ड ने कहा कि हिंसा के इस चक्र को समाप्त करने और एक स्थायी शांति बनाने का एकमात्र तरीका राजनीतिक समझौता है। सुश्री ग्रीनफील्ड ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका यह सुनिश्चित करने के लिए काम करेगा कि इजरायल समझौते पर सहमत हो और कतर और मिस्र हमास को बातचीत की मेज पर लाने के लिए काम करेंगे। उन्होंने कहा कि साथियों, आज हमने शांति के लिए मतदान किया। प्रस्ताव में तीन चरणों वाली योजना बताई गई है, जिसमें तत्काल युद्ध विराम, इजरायली जेलों में बंद फिलिस्तीनियों के बदले सभी बंधकों की रिहाई, विस्थापित गाजावासियों की उनके घरों में वापसी और गाजा से इजरायली सेना की पूर्ण वापसी शामिल है।

दूसरे चरण में दोनों पक्षों द्वारा सहमत स्थायी युद्ध विराम की बात कही गई है और तीसरे चरण में गाजा के लिए बहु-वर्षीय पुनर्निर्माण योजना और मृत बंधकों के अवशेषों की वापसी शामिल होगी। प्रस्ताव में कहा गया है कि यदि वार्ता का पहला चरण छह सप्ताह से अधिक समय लेता है, तो भी जब तक वार्ता जारी रहेगी, युद्ध विराम लागू रहेगा। यह “गाजा पट्टी में जनसांख्यिकीय या क्षेत्रीय परिवर्तन के किसी भी प्रयास” को भी अस्वीकार करता है।

संयुक्त राष्ट्र में इजरायल की प्रतिनिधि सुश्री शापिर बेन नफ्ताली ने कहा है कि युद्ध में उनके देश के लक्ष्य नहीं बदले हैं और वह बंधकों को मुक्त कराने के लिए सैन्य अभियानों का उपयोग करेगी। सुश्री नफ्ताली ने परिषद को आश्वासन दिया है कि यदि हमास के नेता सभी बंधकों को रिहा कर देते हैं और आत्मसमर्पण कर देते हैं, तो एक भी गोली नहीं चलाई जाएगी।

यह भी पढ़ेंः-ये हैं लखनऊ के सबसे प्रसिद्ध हनुमान मंदिर, भक्तों की हर मनोकामना होती है पूरी

हमास ने इस पर प्रतिक्रिया दी है। यह सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव की सामग्री का स्वागत करता है। संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत वसीली नेबेंज़्या ने कहा कि परिषद इजरायल के साथ अमेरिकी समझौते के विवरण के बारे में अंधेरे में है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)