देश Featured

रामेश्वरम कैफे ब्लास्ट मामले में दो संदिग्धों को रिमांड पर बेंगलुरु लाया गया, बंगाल से हुई थी गिरफ्तारी

bengaluru-cafe-blast

Bengaluru Cafe Blast: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को बेंगलुरु के एक कैफे में 1 मार्च को हुए विस्फोट के सिलसिले में कोलकाता के बाहरी इलाके से गिरफ्तार किए गए दो लोगों की तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड शुक्रवार को मिल गई। गिरफ्तार अब्दुल मतीन ताहा और मुसाविर हुसैन शाजेब बेंगलुरु के रामेश्वरम कैफे में कम तीव्रता वाले विस्फोट के बाद से फरार थे।

गिरफ्तारी के बाद, दोनों को कोलकाता में एक विशेष एनआईए अदालत के सामने पेश किया गया, जिसने एजेंसी को तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड दी गई। एक महीने की लंबी खोज के बाद, एनआईए ने बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट मामले के मास्टरमाइंड सहित दो फरार लोगों को कोलकाता के पास उनके ठिकाने पर ट्रैक करके गिरफ्तार किया गया। वही आज दोनों को बैंगलुरु लाया गया।

अब्दुल मथीन ताहा आईईडी विस्फोट का है मास्टरमाइंड 

एनआईए ने कैफे में आईईडी लगाने वाले व्यक्ति के रूप में मुसाविर हुसैन शाजिब की पहचान की थी, जबकि साजिश के पीछे अब्दुल मतीन ताहा मास्टरमाइंड था। उसने विस्फोट की योजना बनाई और उसे अंजाम दिया, जिससे कैफे में कई ग्राहक और कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हो गए। अदबुल मतीन ने भागने की योजना पर भी काम किया और एक महीने से अधिक समय तक गिरफ्तारी से बचने में कामयाब रहा। एनआईए ने कहा कि ये दोनों अपने सह-आरोपी माज़ मुनीर अहमद के साथ पहले आतंकी मामलों में शामिल थे। एनआईए ने 3 मार्च को बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट की जांच अपने हाथ में ले ली थी।

ये भी पढ़ें..Lok Sabha Election 2024: पीएम मोदी आज जम्मू-कश्मीर में भरेंगे चुनावी हुंकार, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

कोलकाता से हुई गिरफ्तारी

उसने माज मुनीर अहमद और मुज्जमिल शेरिफ के साथ इन दोनों आरोपियों की पहचान 1 मार्च ब्लास्ट में अहम भूमिका निभाने वाले लोगों के रूप में की थी। एनआईए ने कहा कि मुज्जमिल शेरिफ आईईडी विस्फोट को अंजाम देने में अन्य दो आरोपियों को साजोसामान सहायता प्रदान करने में शामिल था।

विभिन्न अन्य केंद्रीय एजेंसियों और कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के पुलिस विभागों के साथ समन्वय में काम करने के बाद, एजेंसी ने आखिरकार शुक्रवार को दोनों को कोलकाता में ढूंढ लिया। यह पता चलने पर कि आतंकवादी फर्जी पहचान के तहत कोलकाता के पास एक लॉज में रह रहे थे, पश्चिम बंगाल पुलिस की मदद से एनआईए ने अनुरोध किया, जिसके बाद टीमों ने मिलकर अभियान चलाया गया व दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)