Rathi murder case : CBI की चार्जशीट में बड़ा दावा, ब्रिटेन से जुड़े हैं इस केस के तार

52
cbi-raids Central Bureau of Investigation fake call center

झज्जरः इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष एवं बहादुरगढ़ के पूर्व विधायक नफे सिंह राठी और उनके समर्थक जय किशन दलाल की हत्या मामले में सीबीआई द्वारा पंचकूला सीबीआई कोर्ट में दाखिल पहली चार्जशीट में कई अहम खुलासे किए गए हैं, लेकिन हत्या के पीछे का मकसद अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। इसके बाद इस हत्या का रहस्य और गहरा गया है। सीबीआई ने इस हत्या की परतों को सुलझाने के लिए एक अहम खुलासा जरूर किया है।

दिल्ली से खरीदा जीपीएस ट्रैकर

वह यह कि ब्रिटेन में रहने वाले गैंगस्टर कपिल सांगवान उर्फ ​​नंदू ने 18 फरवरी को सिग्नल एप के जरिए सचिन नाम के व्यक्ति से संपर्क किया और कहा, अमित गुलिया ने तुम्हारा नंबर दिया है, भाई मुझे एक दुश्मन को मारना है, बहादुरगढ़ चलो। बहादुरगढ़ में हुए नफे सिंह हत्याकांड की सीबीआई द्वारा जांच अभी जारी है। पंचकूला सीबीआई कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में एक ब्रिटिश गैंगस्टर का नाम शामिल किया गया है। सबसे अहम बात जो सामने आई है, वह यह है कि हत्यारों ने नफे सिंह की हत्या करने से पहले उसकी कार की लोकेशन जानने के लिए जीपीएस सिस्टम भी लगवाया था। यह जीपीएस ट्रैकर दिल्ली के द्वारका स्थित एक म्यूजिक कार की दुकान से खरीदा गया था।

यह भी पढ़ेंः-पलवल में 50 लाख की ड्रग्स जब्त, कंडक्टर गिरफ्तार, ड्राइवर हुआ फरार

25 फरवरी को हुई हत्या

लेकिन खरीदार कौन था, इसका खुलासा अभी नहीं हो पाया है। बताया गया है कि अब तक की जांच में पता चला है कि चार शूटरों और ब्रिटेन में रह रहे गैंगस्टर नंदू के बीच सिग्नल एप के जरिए बात हुई थी। नफे सिंह राठी हत्याकांड के बाद नंदू ने सोशल मीडिया पर पोस्ट वायरल कर इसकी जिम्मेदारी ली थी। बताया गया है कि हत्या से पहले सचिन ने इस काम में मदद के लिए आशीष उर्फ ​​बाबा को चुना था। 23 फरवरी को वे नांगलोई से बहादुरगढ़ मेट्रो स्टेशन गए थे। जहां सचिन ने नंदू के बताए अनुसार सेल्फी लेकर भेजी थी।

इसके बाद 25 फरवरी को नफे सिंह राठी की हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में दो शूटर आशीष और सौरव को गोवा के एक होटल से गिरफ्तार किया था। जबकि अतुल प्रधान निवासी नजफगढ़ और नकुल सांगवान निवासी नारनौल अभी फरार हैं। पुलिस ने शूटरों को कार उपलब्ध कराने के आरोप में बिजवासन निवासी धर्मेंद्र को गिरफ्तार किया था। सभी जेल में हैं। पुलिस ने दिल्ली की मंडोली जेल में बंद अमित गुलिया को भी प्रोडक्शन वारंट पर लाया और उससे घटना के संबंध में पूछताछ की।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)