एक हादसे ने बदल दी थी सुधा चंद्रन की जिंदगी, काटना पड़ा था पैर, आज हैं इस मुकाम पर

मुंबईः मशहूर टीवी और फिल्म अभिनेत्री सुधा चंद्रन बिल्कुल नए अवतार में नजर आ रही हैं। वह ‘क्राइम अलर्ट’ की एंकर हैं। वह पहली बार किसी शो को होस्ट कर रही हैं। सुधा अच्छी डांसर और बेहतरीन एक्ट्रेस तो हैं ही अब वह एंकरिंग करके भी काफी खुश हैं। कम ही लोग जानते हैं सुधा ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत तेलुगु फिल्म ‘मयूरी’ से की थी जो कि उन्हीं की लाइफ पर बेस्ड थी। बाद में ये फिल्म तमिल, मलयालम में डब और इसका हिन्दी रीमेक ‘नाचे मयूरी’ बना।

ये भी पढ़ें..अमेरिका में चर्च के अंदर फिर गोलीबारी, एक की मौत, दो घायल

“सुधा ने बताया कि शुरूआत में, जब मैंने इसे लिया, तो मैं थोड़ा आशंकित थी क्योंकि यह एक ऐसी शैली है जिसे मैंने बिल्कुल भी छुआ नहीं है। मैंने अभिनय करने की कोशिश की है लेकिन एंकरिंग मुझे हमेशा बहुत अलग लगती थी और मुश्किल भी होगी क्योंकि हिंदी भाषा पर आपकी पकड़ बहुत मजबूत होनी चाहिए।” “अपेक्षाकृत मैं काफी अच्छी हिंदी बोलता हूं लेकिन फिर भी, कुछ ऐसे शब्द हैं जिन्हें सटीकता के साथ कहा जाना है। इसलिए मुझे थोड़ा संदेह हुआ।”

उन्होंने आगे कहा, “इसके अलावा जब आप एक क्राइम शो के एंकर होते हैं, तो आप एक सामाजिक संदेशवाहक बन जाते हैं, आप दर्शकों को सही और सही बता रहे होते हैं। इसलिए यह विश्वास बहुत महत्वपूर्ण है। मेरे दिमाग में बहुत सारे सवाल चल रहे थे लेकिन फिर भी मैंने हमेशा चुनौतियों को स्वीकार किया है। मैंने अपने आप से कहा ‘सुधा हार मत मानो। आपको इसे आजमाना होगा’, इसलिए मैं यहां हूं।” शो की विशिष्टता के बारे में बात करते हुए, सुधा कहती हैं, “हम जो कहानियां दिखा रहे हैं, वे केवल कहानियां नहीं हैं, बल्कि एक संदेश देती हैं, सीखने में मदद करती हैं और नैतिकता के साथ समाप्त होती हैं। प्रत्येक एपिसोड के अंत में संदेश कई लोगों की मदद करेगा।”

“मुझे लगता है कि हिमांशु और पायल इस तरह के शो के सबसे पुराने निर्माता हैं। जब मैंने क्राइम अलर्ट बनाना शुरू किया, तो मैंने कुछ एपिसोड किए, कुछ एपिसोड भी बनाए और उस समय उनके साथ काम करने में एक खुशी थी।”
क्राइम बेस्ड शोज का एक अलग फील और ऑडियंस होता है। सहमत होते हुए, सुधा आगे कहती हैं, “जब मुझे शो की पेशकश की गई थी, तो मैं ऐसा था कि मैं ही क्यों, लेकिन, जब मैं टीम से मिला तो उन्होंने कहा, आप क्यों नहीं और उस तरह से मुझे छुआ। उन्होंने मुझे हां कहने के लिए मना लिया और पीछे मुड़कर देखने पर मुझे इसे लेने का बिल्कुल भी अफसोस नहीं है।”

हादसे में काटना पड़ा था पैर

बता दें कि एक हादसे में सुधा का पैर काटना पड़ गया था। जिस वक्त यह हादसा हुआ था उस उनकी आयु सिर्फ 17 साल की थी। 4 महीने तो उन्हें सीधा चलने में लग गए। जिसके बाद उनका डांसिंग करियर खतरे में पड़ गया, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और नकली पैर से तैयारी कर फिल्म और टीवी इंडस्ट्री में पहचान कायम की। उनके इसी जज्बे पर फिर फिल्म बनी।

इन टीवी शोज और फिल्मों में कर चुकी है काम

सुधा 90 के दशक से टीवी इंडस्ट्री में एक्टिव हैं। सुधा ‘नागिन’ के अलावा अब तक ‘बहुरानियां'(1990), ‘हमारी बहू तुलसी'(1990), ‘चंद्रकांता'(1994-96), ‘जाने भी दो पारो'(1997), ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी'(2004-08), ‘कस्तूरी'(2007-09), ‘अदालत'(2011) जैसे कई टीवी शोज में नजर आ चुकी हैं। इसके अलावा शोला और शबनम'(1992), ‘अंजाम'(1994), ‘हम आपके दिल में रहते हैं'(1999), ‘शादी करके फंस गया यार'(2006), ‘मालामाल वीकली'(2006) के साथ कई साउथ फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)