Lok Sabha elections: तारीखों की घोषणा से पहले सपा को झटका

10

Lok Sabha elections, कन्नौजः सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की कर्मभूमि कन्नौज में पार्टी की एकता बिखर रही है। शुक्रवार को तालग्राम नगर पंचायत के पूर्व चेयरमैन दिनेश यादव ने सपा से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया। वरिष्ठ सपा नेता दिनेश यादव की पत्नी वर्तमान में जिला पंचायत सदस्य हैं। श्री यादव कानपुर विश्वविद्यालय के छात्रसंघ अध्यक्ष रहने के बाद सपा के फ्रंटल संगठन समाजवादी युवजन सभा के कन्नौज जिला अध्यक्ष भी रहे। लंबे समय से पार्टी हाईकमान द्वारा उनकी उपेक्षा की जा रही थी।

पार्टी में चल रही अंदरूनी कलह

कयास लगाए जा रहे थे कि जिले के वरिष्ठ सपा नेता दिनेश यादव शुक्रवार सुबह सपा से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होंगे। 2019 के लोकसभा चुनाव में डिंपल यादव के कन्नौज से चुनाव हारने के बाद से ही सपा में अंदरूनी कलह चल रही है। जिसके चलते 2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को कन्नौज में करारी हार का सामना करना पड़ा।

सपा के कई नेता कर सकते हैं बगावत

एक समय था जब कन्नौज को समाजवादी पार्टी का अभेद्य किला कहा जाता था। पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव की जिले के हर कार्यकर्ता पर सीधी नजर रही। प्रदेश की सत्ता के साथ-साथ पार्टी की कमान संभालते ही सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव कन्नौज के कुछ लोगों की कठपुतली बन गये और पार्टी के मेहनती कार्यकर्ताओं की अनदेखी करने लगे। इससे जिले में अफरा-तफरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी। जुमलेबाज़ों से घिरे अखिलेश यादव ने पिछले पांच साल में पार्टी हित में कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया।

यह भी पढ़ेंः-काशी विश्वनाथ की तर्ज पर बनेगा बाराबंकी का यह मंदिर, पास हुआ बजट

उच्च नेतृत्व द्वारा उपेक्षित नेताओं में गिने जाने वाले सपा नेता दिनेश यादव के सपा छोड़कर भाजपा में शामिल होने से यह कयास लगाया जा रहा है कि जल्द ही कुछ और सपा नेता पार्टी से बगावत करेंगे। सपा छोड़ने वाले दिनेश यादव को लखनऊ में बीजेपी के प्रदेश कार्यालय में डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कराई।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)