सोनभद्रः नाबालिग बालिका का पहले किया शारीरिक शोषण, फिर धर्म परिवर्तन कराकर किया निकाह

25

religion-convert

सोनभद्रः जिले के मांची थाना क्षेत्र अन्तर्गत एक शादीशुदा मुस्लिम युवक ने अनुसूचित जनजाति की नाबालिग लड़की का करीब एक माह तक शारीरिक शोषण किया। इसके बाद धर्म परिवर्तन कराकर बालिका के साथ निकाह कर लिया। बालिका के पिता की तहरीर पर पुलिस एफआईआर दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुट गई है।

मिली जानकारी के अनुसार मांची थाना क्षेत्र अन्तर्गत एक गांव निवासी व्यक्ति ने तहरीर के माध्यम से बताया कि वह अनुसूचित जनजाति के चेरो समुदाय का व्यक्ति है। उसकी 15वर्षीय नाबालिग बेटी को पल्हारी ग्राम निवासी असलम पुत्र महबूब अली ने एक माह पूर्व बहला फुसलाकर उसका ब्रेनवॉष कर उसे अपनी बड़ी बहन के यहां नौगढ़ जिला चंदौली लेकर चला गया। वहां उसने बालिका के साथ एक माह तक शारीरिक शोषण किया।

सूचना देने पर उसे पुलिस द्वारा बरामद किया गया और असलम और उसके पिता तथा अन्य लोगों द्वारा दबाव बनाकर एक लाख रुपया देकर समझौता करा दिया गया। इसके बाद बालिका अपने घर वापस आ गयी। इसके बाद फिर 02 मई को असलम मेरी पुत्री को भगाकर ले गया और जबरन उसका धर्मान्तरण कराकर उसके साथ निकाह कर लिया। जबकि असलम पहले से ही शादीशुदा है। निकाह के बाद असलम मेरी पुत्री को लेकर घर आया तो हमने इसका विरोध किया।

ये भी पढ़ें..MP में हो रहा बहनों का सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक सशक्तिकरण, बोले…

लड़की के पिता के अनुसार मैं हिन्दू हूँ, मुस्लिम परिवार में अपनी बेटी की शादी नहीं कर सकता। मेरी बेटी की जबरन धर्मांतरण कराकर निकाह कराया गया। वहीं असलम पहले से शादीशुदा व्यक्ति है। उसने मेरी बेटी का ब्रेनवॉष किया है। पुलिस ने इस मामले में गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज की है। पुलिस आरोपी के गिरफ्तारी में जुट गयी है। इसके साथ ही स्थानीय आदिवासी लोगों ने यह आरोप लगाया है कि मुस्लिम समुदाय के लोग धर्म परिवर्तन व लव जिहाद का अभियान चला रहे हैं। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रशासन को कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)