शाह ने बंगाल के लिए कसी कमर, नेताओं को समझाया रोडमैप

37

नई दिल्लीः गृहमंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को अपने आवास पर पश्चिम बंगाल कोर कमेटी की मीटिंग कर पार्टी नेताओं को राज्य में दो सौ सीटें जीतने का रोडमैप समझाया। उन्होंने बूथ लेवल पर नए कार्यकर्ताओं को जोड़ने के लिए अभियान चलाने का निर्देश दिया। गृहमंत्री अमित शाह की ओर से तैयार पन्ना प्रमुख का मॉडल पश्चिम बंगाल में भी अपनाया जाएगा। वोटर लिस्ट के हर पन्ने पर दर्ज नामों को भाजपा के पाले में लाने की जिम्मेदारी एक-एक सक्रिय कार्यकर्ता को सौंपी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, टीएमसी से नाराज चल रहे कुछ सांसद और विधायकों के भाजपा में आने की इच्छा जताने के मसले पर भी विचार-विमर्श हुआ।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की रणनीति बनाने के लिए पहले कोर कमेटी की मीटिंग सायं तीन बजे से पार्टी के केंद्रीय मुख्यालय पर होनी थी। लेकिन, बाद में यह मीटिंग गृहमंत्री अमित शाह के आवास पर होनी तय हुई। सायं छह बजे से पश्चिम बंगाल भाजपा के सभी प्रमुख नेता गृहमंत्री अमित शाह के आवास पर पहुंचे। इस बैठक में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय, राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष, प्रदेश संगठन महामंत्री अमिताभ चक्रवर्ती प्रमुख रूप से हिस्सा लिए।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि करीब दो घंटे चली बैठक में पश्चिम बंगाल के हर हिस्से के राजनीतिक माहौल पर चर्चा हुई। सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के प्रभाव वाली सीटों के बारे में गृहमंत्री अमित शाह ने पार्टी नेताओं से फीडबैक लिया। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि पुराने वफादार कार्यकर्ताओं को पार्टी में उचित सम्मान मिलना जरूरी है। ताकि उनमें किसी तरह की निराशा न हो। इसके साथ ही बंगाल में संगठन को मजबूत करने के लिए नए-नए कार्यकर्ताओं और नेताओं को पार्टी से जोड़ने का अभियान लगातार चलते रहना चाहिए।

गृहमंत्री अमित शाह ने दो सौ सीटें जीतने के लिए सभी नेताओं से जी-जान से जुट जाने की अपील की। उन्होंने पार्टी नेताओं को वर्ष 2019 की तरह कड़ी मेहनत करने की अपील की। ताकि फिर से चुनावी नतीजे चौंकाने वाले हों। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने हाल में बंगाल दौरे के दौरान किसानों से कनेक्ट होने के लिए ‘एक मुट्ठी चावल’ अभियान शुरू किया था। गृहमंत्री अमित शाह ने मौजूदा समय किसान आंदोलन को देखते हुए राज्य के किसानों से पार्टी नेताओं को लगातार संपर्क कर मोदी सरकार की ओर से किसानों के लिए किए गए कार्यों को बताने का भी निर्देश दिया।