विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों से टूटा शेयर बाजार, सेंसेक्स फिर फिसला

53
Kolkata, Mar 09 (ANI): Share brokers monitor data on computer screens, as the Sensex and nifty goes down, in Kolkata on Monday. (ANI Photo)

मुंबईः मुनाफावसूली के दबाव में घरेलू शेयर बाजार में सोमवार को लगातार दूसरे सत्र में गिरावट जारी रही। सेंसेक्स बीते सत्र से 470.40 अंकों यानी 0.96 फीसदी की गिरावट के साथ 48,564.27 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 152.40 अंकों यानी 1.06 फीसदी की गिरावट के साथ 14,281.30 पर ठहरा। धातु, युटिलिटीज, टेलीकॉम समेत ज्यादातर सेक्टरों में बिकवाली का दबाव बना रहा।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 26.55 अंकों की बढ़त के साथ 49,061.22 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 48,403.97 तक लुढ़का, जबकि ऊपरी स्तर 49,122.23 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र से 19.60 अंकों की बढ़त के साथ 14,453.30 पर खुला और कारोबार के दौरान 14,222.80 तक फिसला, जबकि ऊपरी स्तर 14,459.15 रहा।

बीएसई मिडकैप सूचकांक बीते सत्र से 379.31 अंकों यानी 2.01 फीसदी की गिरावट के साथ 18,524.83 पर बंद हुआ और स्मॉलकैप सूचकांक 352.33 अंकों यानी 1.89 फीसदी की गिरावट के साथ 18,329.79 पर ठहरा।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से सिर्फ शेयर बढ़त के साथ बंद हुए, जबकि 26 शेयरों में गिरावट दर्ज की गई। बढ़त के साथ बंद हुए शेयरों में रिलायंस (2.37 फीसदी), टाइटन (1.86 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (1.15 फीसदी) और आईटीसी (0.76 फीसदी) शामिल रहे।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में ओएनजीसी (5.59 फीसदी), सनफार्मा (3.74 फीसदी), इंडसइंड बैंक (3.71 फीसदी), पावरग्रिड (3.50 फीसदी) और बजाज फाइनेंस (3.44 फीसदी) शामिल रहे।

यह भी पढ़ेंः-ममता के गढ़ में भाजपा की रैली पर पथराव, कार्यकर्ता का सिर फटा

बीएसई के 19 सेक्टरों में दो सिर्फ दो सेक्टरों के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए, जबकि बाकी 17 सेक्टरों में गिरावट दर्ज की गई। बीएसई के बढ़त वाले सेक्टरों में ऊर्जा (1.10 फीसदी) और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स (0.77 फीसदी) शामिल हैं। वहीं, सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच सेक्टरों में धातु (4.14 फीसदी), युटिलिटीज (2.66 फीसदी), टेलीकॉम (2.41 फीसदी), हेल्थकेयर (2.31 फीसदी) और आधारभूत सामग्री (2.28 फीसदी) शामिल रहे। जानकार बताते हैं कि विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के बीच घरेलू शेयर बाजार में मुनाफावसूली हावी रहा, जिससे बिकवाली का दबाव बना रहा।