Russia-North korea: 24 साल बाद उत्तर कोरिया पहुंचे पुतिन ने बढ़ाई अमेरिका की टेंशन

83
kim-jong-un-putin

Russia-North korea: 24 साल बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) उत्तर कोरिया की यात्रा पर पहुंचे। माना जा रहा है कि दोनों देश वाशिंगटन के साथ बढ़ते टकराव के मद्देनजर अमेरिका के नेतृत्व वाले प्रतिबंधों को दूर करने के लिए मिलकर काम करना चाहते हैं। सूत्रों की माने तो चीन के प्योंगयांग हवाई अड्डे पर पहुंचे पुतिन का उत्तर कोरियाई राष्ट्रपति किम-जोंग-उन (Kim Jong Un) ने स्वागत किया। उधर उत्तर कोरिया पहुंचे पुतिन ने अमेरिका की टेंशन बढ़ा दी है।

Russia-North korea: हथियारों की हो सकती है डील

बता दें कि पुतिन 24 साल में पहली बार उत्तर कोरिया की यात्रा पर आए हैं। उत्तर कोरिया ने यूक्रेन में उनकी सैन्य कार्रवाइयों के लिए देश के दृढ़ समर्थन की प्रशंसा की। यह यात्रा उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन द्वारा पुतिन को सितंबर 2023 में यात्रा के लिए आमंत्रित किए जाने के बाद हो रही है। विशेषज्ञों के अनुसार, पुतिन की यह यात्रा हथियारों के सौदे को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच हो रही है। उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग की सड़कों को पुतिन के चित्रों और रूसी झंडों से सजाया गया था। एक इमारत पर लगे बैनर पर लिखा था… ‘हम रूसी संघ के राष्ट्रपति का गर्मजोशी से स्वागत करते हैं।’

उत्तर कोरिया पहुंचे पुतिन ने कही ये बात

पुतिन ने कहा कि रूस और उत्तर कोरिया ऐसे व्यापार और भुगतान सिस्टम विकसित करेंगे, जिन पर पश्चिम का नियंत्रण नहीं होगा। इससे दोनों देशों को हर आयाम में लाभ होगा। राष्ट्रपति पुतिन ने 24 वर्षों में उत्तर कोरिया की अपनी पहली यात्रा के दौरान यह भी कहा कि वे यूक्रेन पर उनके आक्रमण के लिए उत्तर कोरिया के दृढ़ समर्थन की सराहना करते हैं।

उन्होंने कहा कि रूस और उत्तर कोरिया व्यापार के अवसरों का पता लगाएंगे और भुगतान प्रणाली विकसित करेंगे “जो पश्चिमी नियंत्रण में नहीं होगी” और देशों के खिलाफ प्रतिबंधों का संयुक्त रूप से विरोध करेंगे। दोनों देश पर्यटन, संस्कृति और शिक्षा में भी सहयोग बढ़ाएंगे।

ये भी पढ़ेंः- Moscow attack: रूस ने किया हमलावरों की गिरफ्तारी का दावा, यूक्रेन ने कही ये बात

पुतिन की उत्तर कोरिया यात्रा ने बढ़ाई अमेरिका की टेंशन

इस बीच, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की उत्तर कोरिया यात्रा ने अमेरिकी चिंताएं बढ़ा दी हैं। अमेरिकी सरकार ने कहा है कि पुतिन की उत्तर कोरिया यात्रा “बड़ी चिंता का विषय” है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता पैट राइडर ने मंगलवार को वाशिंगटन में कहा, “रूस और उत्तर कोरिया के बीच गहराता सहयोग एक ऐसी चीज है जिस पर चिंता करने की जरूरत है। खासकर उन लोगों के लिए जो कोरियाई प्रायद्वीप पर शांति और स्थिरता बनाए रखने में रुचि रखते हैं, लेकिन रूसी आक्रामकता के खिलाफ लड़ रहे यूक्रेन के लोगों का समर्थन भी करना चाहते हैं।”

व्हाइट हाउस की प्रवक्ता कैरिन जीन-पियरे ने कहा कि उत्तर कोरिया से हथियारों की डिलीवरी के कारण रूस यूक्रेन में युद्ध छेड़ने में सक्षम है। जीन-पियरे ने कहा कि यह युद्ध “संयुक्त राष्ट्र चार्टर का स्पष्ट रूप से उल्लंघन करता है और अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को कमजोर कर रहा है”।

उत्तर कोरिया, जो अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी हद तक अलग-थलग पड़ गया है, पर यूक्रेन के पश्चिमी सहयोगियों ने रूस को हथियार और गोला-बारूद की आपूर्ति करने का आरोप लगाया है। पर्यवेक्षकों के अनुसार, दो दिवसीय यात्रा में अन्य बातों के अलावा प्योंगयांग से हथियारों की आपूर्ति पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा, जिसका उपयोग रूस यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में करना चाहता है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)