Water Drinking tips: कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए, ये हैं नियम

drinking-water-rules

drinking-water-rules

नई दिल्लीः रोज 7-8 गिलास पानी पीना चाहिए, पानी हमेशा बैठकर पीना चाहिए, ये तो सबको पता है। लेकिन, क्या आपको मालूम है कि पानी कब पीना चाहिए। जी हां, पानी पीने का भी एक नियम है। अगर आप गलत समय पर पानी पीते हैं तो आपकी सेहत को नुकसान पहुंच सकता है।

पानी शरीर के तापमान को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है। इसके अलावा गर्मियों के दिनों में ज्यादा पानी पीने से डिहाईड्रेशन नहीं होता है। पानी पीने से शरीर की अशुद्धियां बाहर निकल जाती हैं, जिससे सेहत दुरुस्त रहती है। इतना ही नहीं, पानी पाचन क्रिया में भी सहयोगी है। लेकिन, पानी के फायदों के साथ ही पानी पीने की टाइमिंग पर भी ध्यान देना चाहिए।

सुबह उठकर पानी पिएं –

पानी पीने से मेटाबाॅलिज्म दुरुस्त रहता है। सुबह उठकर गुनगुना पानी पीने से शरीर की अशुद्धियां बाहर निकलती हैं, साथ ही आपका पाचन तंत्र भी सही रहता है। वहीं तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से शरीर की कई परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।

खाना खाने के तुरंत बाद न पिएं पानी –

पानी हमारे पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है, लेकिन खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीना पाचन के लिए ठीक नहीं रहता है। दरअसल, खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने से पाचक एंजाइम सही से काम नहीं कर पाते और खाना पचता नहीं है। इससे एसिडिटी की समस्या होने लगती है।

ये भी पढ़ें..आपका बच्चा भी मोबाइल का लती है, तो जान लें आने…

गुनगुना पानी पीने के फायदे –

गुनगुना पानी कई तरह से सेहत को फायदा पहुंचाता है। गुनगुना पानी पीने से डाइजेशन की समस्या ठीक हो जाती है। अगर आपको मसालेदार भोजन या आॅयली खाना खाने से एसिडिटी हो जाती है, तो आप रोज सुबह गुनगुना पानी पीया करें। इसके अलावा इससे अतिरिक्त चर्बी भी तेजी से घटती है।

जल्दबाजी में न पीएं पानी –

पानी कभी भी जल्दबाजी में नहीं पीना चाहिए। पानी हमेशा बैठकर घूंट-घूंट कर पीना चाहिए। इससे पानी हमारे लार के साथ अमाशय में जाता है, जिससे पाचन क्रिया सही रहती है। इसके अलावा फ्रिज का ठंडा पानी तुरंत नहीं पीना चाहिए, इससे पित्ताशय पर विपरीत असर पड़ता है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)