कोवैक्सीन पर कांग्रेस सांसद ने उठाए सवाल, पूछा- ट्रायल पूरा नहीं तो मंजूरी कैसे ?

59


नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर और जयराम रमेश ने कोरोना वायरस से बचाव की स्वदेशी वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के आपात इस्तेमाल की मंजूरी पर सवाल उठाया है। उन्होंने पूछा है कि तीसरे चरण के परीक्षण से पहले ही वैक्सीन को स्वीकृति देना कहीं खतरनाक तो नहीं होगा? सरकार को इस बात को जनता के सामने रखना चाहिए।

समय से पूर्व कोवैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी को लेकर शशि थरूर ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से स्पष्टीकरण मांगा है। उन्होंने रविवार को ट्वीट कर कहा, ”कोवैक्सीन का अभी तक तीसरे चरण का परीक्षण नहीं हुआ है। स्वीकृति समय से पहले मिली है और यह खतरनाक हो सकती है। डॉ. हर्षवर्धन को स्पष्ट करना चाहिए। पूर्ण परीक्षण समाप्त होने तक इसके उपयोग से बचा जाना चाहिए था। इस दौरान भारत एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के साथ अभियान शुरू कर सकता है।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कोवैक्सीन को मिली मंजूरी पर अंगुली उठाते हुए कहा कि भारत बायोटेक प्रथम श्रेणी का उद्यम है लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि तीसरे चरण के परीक्षणों से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत प्रोटोकॉल कोवैक्सीन के लिए संशोधित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को इस बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए। आखिर यह देशवासियों के जीवन का सवाल है। किसी प्रकार की त्रुटि के लिए अब कोई स्थान नहीं है।

यह भी पढे़ंः-क्वींसलैंड सरकार ने भारतीय टीम से कहा, नियमों से खेलो या नहीं आओ

उल्लेखनीय है कि भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने रविवार को ऑक्सफोर्ड एवं एस्टाजेनेका के वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के ‘कोवैक्सीन’ के सीमित आपात इस्तेमाल को मंजूरी दी है। डीसीजीआई के निदेशक डॉ वीजी सोमानी ने कहा कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं। इन वैक्सीनों की दो डोज इंजेक्शन से दी जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि वैक्सीन पर देश में क्लिनिकल ट्रायल लगातार जारी रहेगा।