पुणे : परीक्षा में ‘जिहाद’ पर पूछे गए सवाल पर विश्वविद्यालय ने माफी मांगी

पुणे: सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय (एसपीपीयू) के अधिकारियों ने बीकॉम परीक्षा के ऑनलाइन प्रश्न पत्रों में ‘जिहाद’ आतंकवाद से संबंधित एक विचित्र एवं विवादास्पद सवाल पूछे जाने पर माफी मांगी है। रक्षा बजट से संबंधित विश्वविद्यालय की ऑनलाइन परीक्षा में एक बहु-वैकल्पिक प्रश्न पूछा गया था। सवाल में ‘जिहादी आतंकवाद के प्रमुख कारणों’ के बारे में पूछा गया था, जिसके बहु-वैकल्पिक उत्तरों में ‘वैश्वीकरण’, ‘हथियारों का प्रसार’ और ‘इस्लामी चरमपंथ के नाम पर हिंसा का इस्तेमाल’ जैसे विकल्प दिए गए थे।

इस तरह के सवालों ने छात्रों को स्तब्ध कर दिया और कई लोग इस मामले को तुरंत विश्वविद्यालय अधिकारियों के संज्ञान में लेकर गए। यहां तक कि सोशल मीडिया पर भी सवाल के बारे में चर्चा होने लगी। ऐसे ही एक छात्र हाशिम अंसारी ने कहा कि यद्यपि आधुनिक विश्व इतिहास विषय में आतंकवाद पर एक विषय है, लेकिन परीक्षा में जिस तरह से प्रश्न को डाला गया, उसका वहां पर कोई भी संबंध स्थापित नहीं होता है। इसके अलावा अन्य छात्रों ने भी प्रश्न की प्रासंगिकता पर सवाल उठाए।

यह भी पढ़ें- बवाल के चलते चुनाव आयोग ने मुंगेर के डीएम और पुलिस अधीक्षक को हटाया

इस मामले में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. नितिन आर. करमालकर और रजिस्ट्रार प्रफुल्ल पवार की इस मामले पर कोई टिप्पणी प्राप्त नहीं हो सकी। हालांकि हंगामे के बाद विश्वविद्यालय ने एक बयान जारी किया, जिसमें कहा गया है कि एक ‘गलत शब्द’ से अनजाने में प्रश्नपत्र में गड़बड़ी हो गई। बयान के अनुसार, “प्रशासन उसी के लिए खेद व्यक्त करता है। समिति के मुखिया, जिन्होंने प्रश्नपत्र तैयार किया है, उन्हें इसका स्पष्टीकरण देने के लिए कहा गया है और संबंधित व्यक्तियों को फटकार लगाई गई है।”

loading...