मध्य प्रदेश

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में तैनात पुलिस कर्मी धोती और अंगवस्त्र पहनेंगे

mahakaal

Varanasi: श्री काशी विश्वनाथ दरबार के गर्भगृह में सुरक्षा व्यवस्था के लिए तैनात पुलिस कर्मी अर्चकों की वेशभूषा धोती और अंगवस्त्र में दिखेंगे। साथ ही पुलिस कर्मियों को व्यवहार कुशल बनाने के लिए प्रशिक्षित भी किया जाएगा। 

पुलिस कमिश्नर ने अधिकारियों के साथ की बैठक 

 दरबार में देश के दूर दराज के हिस्सों से आए श्रद्धालुओं को सुगम दर्शन कराने के लिए कवायद शुरू हो गई है। बता दें, बीते मंगलवार को पुलिस कमिश्नर मोहित अग्रवाल ने मंदिर और पूरे परिसर में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के बाद डीसीपी सुरक्षा सूर्यकांत त्रिपाठी से इसको लेकर विमर्श किया। पुलिस कमिश्नर ने धाम के सभागार में मातहत अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में उन्होंने कहा कि, पुलिस कर्मियों को श्रद्धालुओं से अच्छा व्यवहार करना होगा। श्रद्धालुओं से अच्छा व्यवहार उनकी तैनाती की कसौटी बनेगी। मंदिर के गर्भगृह में तैनाती के पूर्व तीन दिनों का प्रशिक्षण भी उन्हें दिलाया जाएगा।  

बैठक के दौरान कही ये बात 

पुलिस कमिश्नर मोहित अग्रवाल के अनुसार गर्भगृह में पुलिसकर्मी पुजारी की वेशभूषा में तैनात किए जाएंगे। इनमें पुरुष कर्मी धोती और अंगवस्त्र, महिला पुलिस कर्मी सलवार-कमीज में रहेंगी। इनकी सहायता के लिए दो पुरुष एवं महिला पुलिसकर्मी सादे वेश में ही गर्भगृह के ठीक बाहर रहेंगे। पुलिस कमिश्नर ने कहा कि, मंदिर में वीवीआईपी आगमन पर पुलिस कर्मी सामान्य श्रद्धालुओं को धक्का मारकर हटाते हैं। अब वे नो टच पॉलिसी का पालन करेंगे। गर्भगृह में महिला पुलिस कर्मी अधिक समय लेने वाले श्रद्धालुओं को हटाएंगी। बाकी जगह भीड़ नियंत्रण के लिए मोटे रस्सों का प्रयोग होगा। पुलिस कमिश्नर ने कहा कि यदि पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान मोबाइल या सोशल मीडिया में व्यस्त् दिखे तो उनके खिलाफ कार्रवाही होगी। अपना आचरण उच्च कोटि का रखे, वर्दी दुरूस्त हो एवं गले में आईकार्ड अवश्य लगाए। 

यह भी पढ़ेंः-लोकसभा चुनाव 2024: फिर उठी जैतपुर को नगर पंचायत बनाने की मांग, हर बार होता है वादा

मंदिर में तैनात सभी पुलिसकर्मियों के मोबाइल में अधिकारियों और थानों के नंबर होने चाहिए। सभी पुलिस कर्मियों का व्यवहार श्रद्धालुओं के प्रति सहानुभूतिपूर्ण रहे। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में सुरक्षा में लगी हुई समस्त सुरक्षा एजेंसियों के साथ समन्वय बनाकर पुलिस कर्मियों को रहना पड़ेगा। 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)