Engineer’s day: जानें आज ही क्यों मनाया जाता है ‘इंजीनियर दिवस’, PM मोदी ने भी दिया खास संदेश

नई दिल्लीः भारत में हर साल 15 सितम्बर को अभियंता दिवस (Engineers day) मनाया जाता है। इसका प्रमुख उद्देश्य देश के विद्यार्थियों को इस क्षेत्र में आने के लिए प्रेरित करना है। इंजीनियरिंग अब विस्तृत क्षेत्र है। देशभर के महत्वपूर्ण विषयों में इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी कराई जाती है। दरअसल इस दिवस का आयोजन भारत के महान इजीनियर एम विश्वेश्वरैया के योगदान को सम्मान देने के लिए किया जाता है। भारत में हर साल लाखों की संख्या में छात्र इंजीनियर बनते हैं। इंजीनियर्स डे पर पीएम मोदी ने भी देश इंजीनियरों को बधाई दी है। आइए जानते हैं क्यों मनाया जाता है इंजीनियर दिवस…

ये भी पढ़ें..Bharat Jodo Yatra: ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के लिए आज आराम का दिन, आगे की रणनीति पर होगी चर्चा

विश्वेश्वरैया के जन्म दिन पर मनाया जाता है इंजीनियर डे

दरअसल इंजीनियर्स डे (Engineers day) भारत के महान इंजीनियर और भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के जन्म दिन पर मनाया जाता है। यह वास्तव में इंजीनियों का संकल्प दिवस है। मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का इंजीनियरिंग के क्षेत्र में असाधारण योगदान अविस्मरणीय है। उन्हें भारतीय सिविल इंजीनियरिंग का जनक तथा आधुनिक भारत का विश्वककर्मा कहा जाता है। देशभर में बने कई बांधों और पुलों को सफल बनाने के पीछे कर्नाटक के मैसूर के कोलार जिले में 15 सितम्बर 1860 को जन्मे विश्वेश्वरैया का बहुत बड़ा योगदान रहा है।

उन्होंने मैसूर में कृष्णाराज सागर बांध, पुणे के खड़कवासला जलाशय में बांध, ग्वालियर में तिगरा बांध इत्यादि कई महत्वपूर्ण बांध बनवाए हैं। हैदराबाद शहर को बनाने का पूरा श्रेय भी ‘फादर ऑफ मॉडर्न मैसूर स्टेट’ कहे जाने वाले विश्वेश्वरैया को ही जाता है। उनके इस योगदान के सम्मान में भारत सरकार ने उन्हें वर्ष 1955 में भारत रत्न से सम्मानित किया था।

एम विश्वेश्वरैया का जन्म 15 सितंबर 1861 को मैसूर के कोलार जिले के एक तेलुगू परिवार में हुआ था। उनके पिता श्रीनिवास शास्त्री संस्कृत के विद्वान और आयुर्वेद के डॉक्टर थे। उन्होंने 1883 में पूना के साइंस कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की थी। एम विश्वेश्वरैया द्वारा मैसूर में किए गए आधुनिक विकास कार्यों के कारण उन्हें मॉर्डन मैसूर का पिता भी कहा जाता है। उन्होंने मांड्या जिले में बने कृष्णराज सागर बांध निर्माण में अहम भूमिका निभाई थी। साल 1962 में 102 साल की उम्र में डॉ. मोक्षगुंडम का निधन हुआ।

पीएम मोदी ने दी बधाई

वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को अभियंता दिवस के मौके पर प्रख्यात अभियंता सर एम विश्वेश्वरैया को याद किया। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, “सभी इंजीनियरों को इंजीनियर्स डे की बधाई। हमारा देश धन्य है कि हमारे पास कुशल और प्रतिभाशाली इंजीनियरों का एक पूल है जो राष्ट्र निर्माण में योगदान दे रहे हैं। हमारी सरकार अधिक इंजीनियरिंग कॉलेजों के निर्माण सहित इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए काम कर रही है।”

पीएम ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “इंजीनियर्स डे पर, हम सर एम. विश्वेश्वरैया के पथप्रदर्शक योगदान को याद करते हैं। वह भविष्य के इंजीनियरों की पीढ़ियों को खुद को अलग करने के लिए प्रेरित करते रहें। मैं पिछले मन की बात कार्यक्रमों में से एक का एक अंश भी साझा कर रहा हूं जहां मैंने इस विषय पर बात की थी।”

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)