इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर PM मोदी का कांग्रेस पर तीखा हमला, जानें क्या कुछ कहा….

72
50th-anniversary-of-Emergency-pm-modi

नई दिल्लीः देश में आपातकाल के आज 49 साल पूरे हो गए हैं। आज इमरजेंसी (emergency) की 50वीं सालगिरह है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समेत भाजपा के तमाम बड़े नेताओं ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। इमरजेंसी 50वीं बरसी के मौके पर पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने तो भारत के संविधान को कुचल दिया और आजादी को खत्म कर दिया। आपातकाल लगाकर कांग्रेस ने देश को जेलखाने में बदल दिया था। कांग्रेस को संविधान के प्रति प्रेम जताने का कोई अधिकार नहीं है।

Emergency: पीएम मोदी ने कांग्रेस पर किया तीखा हमला

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा- ‘आज का दिन उन सभी महान पुरुषों और महिलाओं को श्रद्धांजलि देने का दिन है जिन्होंने आपातकाल का विरोध किया था। आपातकाल (emergency) के काले दिन हमें याद दिलाते हैं कि कैसे कांग्रेस ने मौलिक स्वतंत्रता को नष्ट किया और भारत के संविधान को कुचल दिया, जिसका हर भारतीय बहुत सम्मान करता है।” उन्होंने आगे खिला, “जिस मानसिकता के कारण आपातकाल लगाया गया था, वह आज भी इसे लगाने वाली पार्टी में जीवित है। वे संविधान के प्रति अपने तिरस्कार को छिपाते हैं। लेकिन भारत की जनता उनकी हरकतों को समझ चुकी है और इसीलिए उन्होंने उन्हें बार-बार नकार दिया है।

ये भी पढ़ेंः-इमरजेंसी को PM Modi ने बताया लोकतंत्र पर ‘काला धब्बा’…जानें अपने संबोधन में क्या कुछ कहा

राजनाथ और अमित शाह ने भी किया हमला

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस का देश में लोकतंत्र की हत्या और बार-बार उस पर हमला करने का लंबा इतिहास रहा है। साल 1975 में आज के ही दिन कांग्रेस के द्वारा लगाया गया आपातकाल इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाया गया आपातकाल भारतीय लोकतंत्र का एक काला अध्याय है, जिसे चाहकर भी भुलाया नहीं जा सकता।

उन्होंने कहा, ‘उस दौरान जिस तरह से सत्ता का दुरुपयोग और तानाशाही का खुला खेल खेला गया, वह लोकतंत्र के प्रति कई राजनीतिक दलों की प्रतिबद्धता पर बड़ा सवालिया निशान खड़ा करता है।’

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने ‘एक्स’ पर कहा कि आज जो लोग भारतीय लोकतंत्र के रक्षक होने का दावा करते हैं, उन्होंने संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए उठने वाली आवाजों को दबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। इससे पहले पीएम मोदी ने सोमवार को कांग्रेस पर हमला करने के लिए आपातकाल का हवाला दिया और लोगों से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि ऐसी स्थिति कभी न दोहराई जाए।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)