Parliament Session: कल से शुरू होगा संसद का पहला सत्र, पक्ष-विपक्ष सबका होगा इम्तिहान

55
parliament-session

Parliament Session, नई दिल्ली: 18वीं लोकसभा ने 9 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ के साथ काम करना शुरू कर दिया। लोकसभा का पहला सत्र 24 जून से शुरू होगा। जो 3 जुलाई तक चलेगा। सोमवार को शुरू हो रहे 18वीं लोकसभा के पहले दिन नवनिर्वाचित सांसदों शपथ दिलाई जाएगी और अगले दिन अध्यक्ष का चयन किया जाएगा। बुधवार को राष्ट्रपति का अभिभाषण होगा जिस पर चर्चा होगी और प्रधानमंत्री बयान देंगे। पहला सत्र 3 जुलाई तक है और इसके बाद कुछ दिनों के अवकाश के बाद बजट सत्र आयोजित किया जाएगा।

Parliament Session: जानें पहले दिन क्या-क्या होगा

परंपरा के अनुसार, कल सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री मीडिया को संबोधित करेंगे। इस दौरान राष्ट्रपति प्रोटेम स्पीकर को शपथ दिलाएंगे। प्रोटेम स्पीकर सुबह 11 बजे सदन की बैठक करेंगे। सबसे पहले प्रधानमंत्री और सदन के नेता नरेंद्र मोदी, फिर प्रोटेम स्पीकर की सहायता के लिए गठित पैनल के सदस्य और फिर मंत्रियों को सदन के सदस्य के रूप में शपथ दिलाई जाएगी।

इसके बाद अन्य सदस्यों को शपथ दिलाई जाएगी। अगले दिन लोकसभा अध्यक्ष का चयन किया जाएगा। इसी दिन राष्ट्रपति का अभिभाषण होगा। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर दोनों सदनों में चर्चा होगी, जिसका प्रधानमंत्री जवाब देंगे। सत्र के आखिरी दो दिन दोनों सदनों में अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा होगी।

ये भी पढ़ेंः-CM शर्मा बोले- हमारी सरकार ने आधी आबादी का रखा पूरा ख्याल, लिए कई ऐतिहासिक निर्णय

पहली बार मजबूत विपक्षी नेता से होगा पीएम का सामना

पहली बार पीएम मोदी का सामना किसी मजबूत विपक्षी नेता से होगा। सदन में सत्तारूढ़ एनडीए के विधायकों की संख्या 293 है, वहीं विपक्षी खेमे के विधायकों की संख्या 232 है। संख्या बल के लिहाज से विपक्ष भी इस बार सरकार से ज्यादा पीछे नहीं है। इतना ही नहीं संसद सत्र में NEET परीक्षा में अनियमितता, तीन आपराधिक कानून समेत कई मुद्दों पर हंगामा होने के आसार हैं। यानी इस बार पक्ष-विपक्ष सबका होगा इम्तिहान होगा।

बता दें कि लोकसभा का पहला सत्र पूरा होने के बाद कुछ दिनों के अंतराल में बजट सत्र आयोजित होगा। इसमें वित्त मंत्री वित्त वर्ष 24-25 के लिए बजट पेश करेंगे। तो वहीं दूसरी ओर, विपक्ष ने अपने तीखे तेवरों से यह स्पष्ट करना शुरू कर दिया है कि वह जनहित से जुड़े मुद्दों पर सरकार के साथ किसी भी तरह की रियायत बरतने के मूड में नहीं है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)