पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था से भी खराब श्रेणी में है उसका पासपोर्ट, भारत की रैंक में सुधार

नई दिल्लीः पड़ोसी देश पाकिस्तान के आर्थिक हालात से भी बदतर उसके पासपोर्ट की स्थिति है। हेनले पासपोर्ट इंडेक्स 2022 के अनुसार, विश्व में सबसे अच्छे और खराब पासपोर्ट की जारी सूची में पाकिस्तान विश्व के सबसे खराब पासपोर्ट की सूची में चौथे पायदान पर है। पाकिस्तानी पासपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिए लगातार तीसरे वर्ष भी विश्व में चौथे सबसे खराब की श्रेणी में रखा गया है। इस पासपोर्ट के साथ विश्व भर में 31 ही ऐसे गंतव्य की यात्रा की जा सकती है, जहां बिना वीजा या पहुंचने पर वीजा पाने की सुविधा हासिल है।

एक रिपोर्ट में कहा कि ऐसे गंतव्यों की संख्या जहां पासपोर्ट धारक बिना पूर्व वीजा के पहुंच सकते हैं, के आधार पर हेनले पासपोर्ट इंडेक्स ने विश्व के सभी पासपोर्ट की रैंकिंग की है। इस रैंकिंग में पाकिस्तान को 108वें स्थान पर रखा गया है। हेनले पासपोर्ट इंडेक्स 2006 से नियमित रूप से विश्व के सर्वाधिक ट्रैवल फ्रेंडली पासपोर्ट की निगरानी कर रहा है। कोरोना महामारी के कारण यात्रा पर प्रतिबंध बढ़ रहे हैं। इंडेक्स में अस्थायी रूप से प्रतिबंध को ध्यान में नहीं लिया जाता है।

नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार भले ही दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है, लेकिन जापान और सिंगापुर वर्ष 2022 के लिए दुनिया के सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट की सूची में शीर्ष पर हैं। इन दोनों देशों का वीजा-फ्री स्कोर 192 है। रिपोर्ट में बताया गया है कि 190 के स्कोर के साथ दक्षिण कोरिया जर्मनी के साथ दूसरे स्थान पर है। वहीं, भारत ने अपनी रैंक में सुधार किया है और वर्तमान में 60 वीजा-फ्री स्कोर के साथ सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट रिपोर्ट में पहले के 90वें स्थान से 83वें स्थान पर पहुंच गया है।

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स सूचकांक में आयरलैंड और पुर्तगाल पांचवें स्थान पर हैं। वहीं, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम, जिन्होंने 2014 में एक साथ शीर्ष स्थान हासिल किया था, उनकी रैंकिंग कम हो गई है और साल 2022 की रैकिंग में ये दोनों देश 6वें स्थान पर हैं।