देश

बीजेपी के संकल्प पत्र पर विपक्ष का बड़ा हमला, गुमराह करने वाला बताया घोषणापत्र

bjp-manifesto

रांची: लोकसभा चुनाव के मद्देनजर रविवार को बीजेपी की ओर से जारी संकल्प पत्र पर विपक्ष ने तीखा हमला बोला है। झारखंड के श्रम, नियोजन, प्रशिक्षण एवं कौशल विकास सह उद्योग मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा है कि पीएम मोदी और बीजेपी का चुनावी घोषणापत्र जनता को भ्रमित करने वाला है। उन्होंने कहा है कि जो भी करना है वह मौजूदा जरूरत के मुताबिक होना चाहिए। लेकिन भाजपा और उसके नेता बिजली, पानी, शिक्षा, चिकित्सा जैसी आम लोगों की बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ गरीबों को क्या चाहिए, इस पर बात नहीं कर रहे हैं।

बीजेपी के घोषणा पत्र पर क्या बोले सत्यानंद भोक्ता

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता सीधे तौर पर स्मार्ट सिटी, ग्रीन सिटी, रेलवे, हवाई जहाज और काले धन की बात कर रहे हैं। यही कारण है कि भाजपा और केंद्र सरकार का कोई भी काम जमीन पर नजर नहीं आ रहा है। श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने चतरा के निवर्तमान सांसद सुनील कुमार सिंह के टिकट पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि अपनी मनमाने कार्यशैली के कारण निवर्तमान सांसद को जनता के विरोध का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सांसदों को आदर्श ग्राम योजना के तहत गांवों का चयन कर उनका समुचित विकास करने का लक्ष्य दिया था। लेकिन सांसद आदर्श गांवों में आज तक न तो बिजली पहुंची और न ही पानी। सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य भी भगवान भरोसे है।

 यह भी पढे़ंः-ईरान-इजरायल संघर्षः ईरान ने दी अमेरिका को चेतावनी, भारत सहित कई देशों ने की ये अपील

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी अपनी हार देखकर मौजूदा सांसद का टिकट काट देती है और नए लोगों को मौका देती है। बीजेपी प्रयोगशाला चला रही है। अगर मौजूदा सांसद ऐसा नहीं करेगा तो अगला सांसद ऐसा करेगा। यह न सिर्फ गरीबों के साथ मजाक है बल्कि समय की बर्बादी भी है।' मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने आगे कहा है कि गरीबों को सीधा लाभ मिले, इसके लिए बीजेपी को योजना बनाकर चुनावी संकल्प पत्र जारी करना चाहिए। भाजपा ने गरीबी उन्मूलन, स्मार्ट सिटी, ग्रीन सिटी, रेलवे, हवाई जहाज और काला धन वापस लाने के जो भी वादे किये, आज तक इस दिशा में कोई काम नहीं हुआ।

पीएम मोदी को लेकर क्या बोले नेता

उन्होंने कहा कि बीजेपी के शीर्ष नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कभी-कभी कहते हैं कि विकास के लिए 60 महीने चाहिए। फिर कहा जाता है कि 120 महीने का समय चाहिए। इसके बाद कहा जाता है कि 2047 में देश विकसित भारत बन जाएगा, फिर 2068 के बारे में कहा जाता है। उन्होंने पूछा कि देश के विकास और गरीबों के कल्याण के लिए बीजेपी को वास्तव में कितना समय चाहिए क्योंकि चुनाव को देखते हुए बीजेपी के घोषणापत्र से साफ है कि देश 2047 में विकसित भारत बनेगा, लेकिन उस दौरान आज न कोई देखने वाला बचेगा और न कोई बोलने वाला। 2024 के चुनाव घोषणापत्र से पहले बीजेपी को 2014 का घोषणापत्र लागू करना चाहिए और फिर 2019 का घोषणापत्र लागू करना चाहिए। उसके बाद 2024 में क्या होगा ये देखने वाली बात होगी।

सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा अमृत महोत्सव मनाया गया, लेकिन जनता को कोई लाभ नहीं मिला। देश के मजदूरों, आम लोगों के साथ-साथ किसानों को कोई सुविधा नहीं मिल रही है और केंद्र सरकार अमृत महोत्सव मना रही है। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री की आदिवासी जनजातीय महोत्सव मनाने की घोषणा महज चुनावी धोखा है। संकल्प पत्र और मोदी की गारंटी के नाम पर प्रधानमंत्री जनता को गुमराह कर रहे हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)