अब ब्लैक फंगस ने बढ़ायी राजस्थान के स्वास्थ्य महकमे की चिंता, 8 दिन में ही बढ़े 1660 मरीज

जयपुरः राजस्थान में कोरोना वायरस के संक्रमण से राहत मिलने के बावजूद प्रदेश का चिकित्सा महकमा चिंतित है। अब चिंता ब्लैक फंगस (म्यूकोर माइकोसिस) ने बढ़ा दी है। हालत यह है कि राजस्थान में गुजरे 8 दिन में ही ब्लैक फंगस के 1660 मरीज बढ़ गए हैं। ऐसे में इस बीमारी से पीड़ित मरीजों का आंकड़ा 800 से बढ़कर 2,460 तक पहुंच गया है। एक सप्ताह में इतनी बड़ी संख्या में ब्लैक फंगस के रोगी देश के किसी अन्य राज्य में नहीं बढ़े हैं। ऐसे में सरकार के साथ चिकित्सा विभाग के अफसरों के हाथ-पांव फूल गए हैं। बीमारी की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने दो विशेष विमानों से ब्लैक फंगस के इलाज में उपयोग होने वाले 5,350 इंजेक्शन मंगाए हैं। देश में ब्लैक फंगस की रोकथाम के लिए सबसे अधिक वॉयल खरीदने वाला राजस्थान पहला राज्य बन गया है। गहलोत सरकार ने 60 हजार इंजेक्शन वॉयल खरीदने का आर्डर जारी किया है। अचानक रोगी बढ़ने के बाद शनिवार को दो विशेष विमान भेजकर 1,000 और 1,350 वाइल्स मंगाई गई है। ये राजस्थान को मिल चुकी हैं। बाद में 3,000 वॉयल और आईं। यानी कुल 5,350 पहुंचने से थोड़ी राहत मिली है।

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के अनुसार 11 मई से भारत सरकार ब्लैक फंगस के उपचार में काम आने वाले इंजेक्शन लिपोसोमोल एम्फोटेरिसिन-8, 50 एमजी का आवंटन कर रही है। राजस्थान को 11 मई से 3 जून तक सिर्फ 16 हजार इंजेक्शन ही दिए गए। प्रदेश में मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए केंद्र से कोटा बढ़ाने के लिए लगातार चर्चा की जा रही है। केंद्र ने 4 जून को पहली बार एक साथ 13 हजार 350 इंजेक्शन राजस्थान को आवंटित किए। दवा मंगाने के लिए तीन स्तरों पर कार्य किया गया है। राज्य सरकार ने विशेष विमान दिल्ली से मुंबई भेजा। यह 1,000 वॉयल लेकर जयपुर पहुंचा। एक अन्य विमान से भी 1,350 वाइल प्राप्त हुई। उन्होंने बताया कि शेष 9,000 वॉयल्स विशेष कोल्ड स्टोरेज कंटेनर में आगामी दो दिनों में पहुंच जाएंगी। इस तरह प्रदेश को 2 दिनों में 14 हजार 350 वाइल प्राप्त होगी।

यह भी पढ़ेंःअपना 33वां जन्मदिन मना रहे अजिंक्या रहाणे, इन दिग्गजों ने दी बधाई

आरएमएससीएल के प्रबंध निदेशक आलोक रंजन ने बताया कि कैडिला फार्मा से भी लगभग 3,000 वाइल्स शनिवार देर रात एयरपोर्ट पहुंची। आरएमएससीएल ने 10 हजार लिपिड़ एम्फोटेरिसिन इंजेक्शन खरीदने के आदेश दिए हैं। स्टेप डाउन थेरेपी और अल्टरनेट चिकित्सा में उपयोगी पोसाकोनाजॉल टैबलेट की पांच हजार टैबलेट पहले ही एसएमएस और संभागीय मेडिकल कॉलेजों में दी गई हैं। शनिवार को 10 हजार पोसाकोनाजॉल टैबलेट और 10 हजार इंजेक्शन खरीद के भी आदेश दिए हैं। आपूर्ति एक सप्ताह में होना संभावित है। राजस्थान को शनिवार तक कुल 29,350 पोसाकोनाजॉल टैबलेट आवंटित हुई हैं, जिनमें से 12 हजार 802 ही मिलीं।