बिहार के 15 जनपदों में एनएचएआई एक सप्ताह में लगाएगा ऑक्सीजन प्लांट

पटनाः केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की पहल पर बिहार के 15 जिलों में राष्ट्रीय राजमार्ग एवं विकास प्राधिकरण (एनएचएआई) एक सप्ताह के अंदर मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा। एक प्लांट की न्यूनतम उत्पादन क्षमता 960 लीटर प्रति मिनट होगी। इस प्रणाली के तहत वातावरण से सीधे हवा लेकर पीएसए टेक्नोलॉजी के माध्यम से मेडिकल ऑक्सीजन तैयार की जाएगी। एनएचएआई के क्षेत्रीय अधिकारी चंदन ने बताया कि अगले सात दिनों के भीतर एनएचएआई को मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट की आधारभूत संरचना तैयार कर देनी है। इसके बाद संयंत्र स्थापित किए जाने का काम लार्सन एंड टूब्रो (एलएंडटी) और टाटा कंपनी करेंगी। इस योजना के तहत पाइपलाइन के माध्यम से अस्पताल तक मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी।

एनएचएआई द्वारा पटना में मसौढ़ी, रोहतास में डेहरी ऑन सोन, वैशाली में महुआ, नवादा में रजौली, पश्चिम चंपारण में नरकटियागंज, सिवान में महाराजगंज, मधुबनी में जयनगर, समस्तीपुर में शाहपुर पटोरी, पूर्णिया में बनमनखी, अररिया में फारबिसगंज, सहरसा में सिमरी बख्तियारपुर, बेगूसराय में बलिया, भागलपुर में कहलगांव, भोजपुर में जगदीशपुर, बक्सर में डुमरांव में मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगायें जाएंगे।

यह भी पढ़ेंःकेंद्र ने जारी की राजस्व घाटा अनुदान की दूसरी किस्त, 17…

इसके अलावा पीएम केयर्स फंड से भी बिहार के भोजपुर, बेगूसराय, भागलपुर, दरभंगा, कटिहार, गया, गोपालगंज, मधुबनी, नालंदा, मुजफ्फरपुर, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पटना, सहरसा और वैशाली जिले में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने हैं।