कोरोना के बीच नया खतरा, राजस्थान के बाद अब इस दो राज्यों में तेजी से मर रहे पक्षी, लोगों में खौफ

60

नई दिल्लीः एक तरफ अभी कोरोना वायरस का खतरा कम नहीं हुआ है वहीं, दूसरी तरफ नया खतरा फिर आ गया है। जिसकी वजह लोगों में खौफ बढ़ता जा रहा है। बता दें कि बर्ड फ्लू के चलते राजस्थान के बाद अब मध्यप्रदेश और हिमाचल प्रदेश में तेजी से पक्षियों की मौत हो रही है। हिमाचल प्रदेश में अब तक 1000 से ज्यादा पक्षियों की मौत हो गई है। फिलहाल विशेषज्ञ इसकी जांच में लगे हुए हैं। मृत पक्षियों का सैंपल लेकर भोपाल की प्रयोगशाला में गया है।

बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद राजस्थान के कोटा और पाली में कई कौवों की मौत हुई और अब ये वायरस और पांच जिलों में फैल चुका है। शनिवार को बारां में 19, झालावाड़ में 15 और कोटा के रामगंजमंडी में 22 और कौवों की मौत हुई। कोटा संभाग के इन्हीं तीन जिलों में अब तक 177 कौवों की मौत हो चुकी है। मध्यप्रदेश के इंदौर में भी 13 और कौवों की मौत हुई।

खतरे की चपेट में आए प्रवासी पक्षी 

राजस्थान और मध्यप्रदेश के बाद हिमाचल प्रदेश के पोंग डैम अभयारण्य में एक हफ्ते में 1,000  से अधिक प्रवासी पक्षी मृत पाए गए हैं। पोंग अभयारण्य में हर साल अक्तूबर से मार्च तक रूस, साइबेरिया, मध्य एशिया, चीन, तिब्बत आदि देशों से विभिन्न प्रजातियों के रंग-बिरंगे परिंदे लंबी उड़ान भर यहां पहुंचते हैं और पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। अब इन पक्षियों की अचानक मौत हो रही है। वन्यप्राणी विभाग ने बर्ड फ्लू की आशंका के चलते जिलाधीश कांगड़ा को अवगत करवा झील में सभी प्रकार की गतिविधियों पर रोक लगा दी है।

यह भी पढ़ेंः-सफल रही गांगुली की सर्जरी, फिलहाल गहन निगरानी में रहेंगे दादा

लोगों में दहशत

बारां जिला में एक किंग फिशर और मेगपाई की भी मौत हो चुकी है। इसके अलावा, पाली के सुमेरपुर में भी अलग-अलग जगह आठ कौवें मरे मिले हैं। जोधपुर में शनिवार को कोई मौत नहीं हुई, लेकिन यहां अब तक सवार्धिक 152 कौवों की मौत हो चुकी है। कोटा संभाग में बर्ड फ्लू के कारण लोगों में दहशत है।